Breaking News

होने जा रहे हैं कई बड़े बदलाव: आम आदमी की जेब पर पड़ेगा सीधा असर

नई दिल्ली। जून माह प्रारंभ होते हो देश में कई बड़े बदलाव होने जा रहे हैं। आपको इन सभी बदलावों की जानकारी होना जरूरी है। इससे आपको किसी तरह की परेशानी नहीं होगी।
देश में हर महीने की पहली तारीख को कई बदलाव होते हैं
ये बदलाव सीधे आम आदमी की जेब पर असर की छूट- कपड़े, जूते, सामान और बहुत कुछ पर डील | देश में हर महीने की पहली तारीख को कई बदलाव होते हैं। मई का महीना खत्म होने में अब दो दिन ही बाकी हैं।जून से देश में कई बड़े बदलाव होने जा रहे हैं। ये ऐसे बदलाव हैं जो सीधे आम आदमी की जेब को प्रभावित करेंगे। इन बदलावों की आपको पहले से जानकारी होना जरूरी है। हालांकि, इन बदलावों से कुछ नुकसान होगा तो कुछ जगह फायदा मिलेगा। इन बदलावों में रसोई गैस सिलेंडर की कीमत से लेकर सीएनजी-पीएनजी की कीमतें भी शामिल हैं। आइए देखते हैं एक जून से क्या-क्या बदलाव होने जा रहे हैं।इलेक्ट्रिक टू-व्हीलर हो जाएंगे महंगे
देश में एक जून से इलेक्ट्रिक टू व्हीलर्स खरीदना महंगा होने जा रहा है। 21 मई को जारी हुए नोटिफिकेशन के मुताबिक, उद्योग मंत्रालय ने इलेक्ट्रिक टू व्हीलर पर दी जाने वाली सब्सिडी को घटा दिया है। यह सब्सिडी पहले 15 हजार रुपये प्रति केडब्ल्यूएच थी। इसे बाद में घटाकर 10 हजार रुपये प्रति KWH कर दिया गया है। इसी के चलते इलेक्ट्रिक टू व्हीलर खरीदना जून से महंगा होने जा रहा है। इलेक्ट्रिक टू व्हीलर के दाम 25 से 30 हजार रुपये तक बढ़ सकते हैं।आम आदमी पर पड़ेगी महंगाई की मार! जानिए वित्त मंत्रालय ने दिए क्या संकेत, पूरी डिटेल
बैंक लौटाएंगे लोगों के पैसे
रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया की ओर से बीते दिनों’ कैंपने की घोषणा की गई थी। एक जून से इसकी शुरुआत होगी। इसका पता लगाने के लिए यह अभियान चलाया जाएगा। इसमें देश के प्रत्येक जिले में 100 दिनों के भीतर बैंक के टॉप 100 अनक्लेम्ड डिपॉजिट्स रकम का पता लगाया जाएगा, जिससे इसका निपटान किया जा सके। बता दें कि सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों ने बिना दावे वाली करीब 35,000 करोड़ रुपये की राशि रिजर्व बैंक को ट्रांसफर की थी। यह राशि वैसे खातों में जमा थी, जिनमें 10 साल या उससे अधिक समय से कोई लेन-देन नहीं हुआ।

About विश्व भारत

Check Also

बढ़ती जनसंख्या के कारण संसाधनों पर भार के साथ ही सेवाओं की गुणवत्ता भी प्रभावित

बढ़ती जनसंख्या के कारण संसाधनों पर भार के साथ ही सेवाओं की गुणवत्ता भी प्रभावित …

दरअसल में भारतीय मुसलमानों को पूरी तरह सुरक्षित शत्रु के रुप मे पेश किया जाता

दरअसल में भारतीय मुसलमानों को पूरी तरह सुरक्षित शत्रु के रुप मे पेश किया जाता …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *