Breaking News

कमलनाथ के गढ़ से लोकसभा चुनाव लड़ेंगे शिवराज चौहान? छिंदवाड़ा में BJP की सेंध लगाने की तैयारी

Advertisements

कमलनाथ के गढ़ से लोकसभा चुनाव लड़ेंगे शिवराज चौहान? छिंदवाड़ा में BJP की सेंध लगाने की तैयारी

Advertisements

टेकचंद्र सनोडिया शास्त्री: सह-संपादक रिपोर्ट

Advertisements

भोपाल । कमलनाथ के गढ़ से लोकसभा चुनाव लड़ेंगे शिवराज चौहान? छिंदवाड़ा में BJP की सेंध लगाने की तैयारी है।

साल 2019 के लोकसभा चुनाव में बीजेपी ने मध्य प्रदेश की 29 में से 28 सीटों पर जीत दर्ज किया था. बीजेपी को प्रदेश की सिर्फ छिंदवाड़ी लोकसभा सीट पर हार का सामना करना पड़ा था.

 

पूर्व सीएम शिवराज सिंह चौहान और कमलनाथ साल 2019 के लोकसभा चुनाव में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की लहर होने के बावजूद मध्य प्रदेश बीजेपी पूर्व सीएम कमलनाथ के गढ़ छिंदवाड़ा की सीट को फतह हासिल करने में नाकाम रही थी. हालांकि 2019 के लोकसभा चुनाव में बीजेपी ने 29 में से 28 सीटें जीत थी, बस यही छिंदवाड़ा की सीट रह गई थी. कांग्रेस की इस मजबूत किले में सेंध लगाने के लिए बीजेपी रणनीति बनाने में जुटी हुई है. राजनीतिक जानकारों का कहना है कि बीजेपी छिंदवाड़ा की सीट पर जीत का परचम फहराने के लिए पूर्व सीएम शिवराज सिंह चौहान पर भरोसा जता सकती है.

 

बता दें, छिंदवाड़ा लोकसभा सीट कांग्रेस का गढ़ है. इस सीट पर साल 1952 से कांग्रेस लगातार जीतती आ रही है. इन 72 सालों में बीजेपी महज एक बार यहां से जीत मिली. उप चुनाव में सुंदरलाल पटवा ने कमलनाथ को हराया था और सुंदरलाल पटवा महज एक साल के लिए सांसद रहे. शेष समय कांग्रेस का ही कब्जा रहा. वर्तमान में पूर्व सीएम कमलनाथ के पुत्र नकुलनाथ यहां से सांसद हैं, वहीं इस सीट पर कमलनाथ, उनकी पत्नी अलकानाथ भी सांसद रह चुके हैं.

 

बीजेपी के लिए मुसीबत

 

मध्य प्रदेश की छिंदवाड़ा सीट कांग्रेस के लिए मुसीबत बन गई है. राम मंदिर की लहर हो या प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की लहर, बावजूद बीजेपी इस सीट पर विजयी नहीं हो सकी. साल 2014 के चुनाव में भी बीजेपी ने प्रदेश की 29 सीटों में से 27 सीटों पर जीत दर्ज किया था, जबकि साल 2019 के चुनाव में तो 29 सीटों में से 28 सीटों पर बीजेपी विजयी हुई, लेकिन छिंदवाड़ा की सीट नहीं जीत सकी.

 

‘शिवराज पर जता सकते हैं भरोसा’

राजनीति के जानकारों का कहना है कि कांग्रेस के इस गढ़ को भेदने के लिए बीजेपी रणनीति बनाने में जुटी है. माना जा रहा है कि छिंदवाड़ा लोकसभा सीट पर बीजेपी पूर्व सीएम शिवराज सिंह चौहान पर भरोसा जता सकती है. अगर ऐसा होता है तो 20 साल बाद एक बार फिर से शिवराज सिंह चौहान लोकसभा चुनाव के मैदान में होंगे.

 

कब कौन रहा सांसद?

छिंदवाड़ा सीट का गठन साल 1952 में हुआ था. पहले चुनाव में यहां से कांग्रेस के रायचंद भाई शाह विजयी हुए थे. इसके बाद 1957 में कांग्रेस के ही भीकूलाल लक्ष्मचंद, 1962 में नारायण राव मणिराम, 1967 में भीकूलाल लक्ष्मीचंद, 1971 में गार्गी शंकर मिश्रा, 1977 में गार्गी शंकर मिश्रा, 1980 में गार्गी शंकर मिश्रा, 1980, 1984, 1989, 1991 और 1996 में कमलनाथ सांस रहे.

साल 1997 में छिंदवाड़ा से कमलनाथ की पत्नी अलकानाथ सांसद बनी. साल 1998 में बीजेपी के सुंदरलाल पटवा और 1998 में कमलनाथ दोबारा चुनाव जीते. साल 2004, 2009 और 2014 में कमलनाथ छिंदवाड़ा से सांसद बने. साल 2019 लोकसभा चुनाव में कमलनाथ के पुत्र नकुलनाथ यहां से सांसद चुने गए

Advertisements

About विश्व भारत

Check Also

समाज सेवक डॉक्टर शकील अहमद जहांगीर अपने सैकड़ो कार्यकर्ताओं के साथ कांग्रेस में हुए शामिल

सेवा फाउंडेशन के अध्यक्ष और ऑल इंडिया उलेमा बोर्ड के महाराष्ट्र शिक्षा विभाग के महासचिव …

BJP के राष्ट्रीय अध्यक्ष जगत प्रकाश नड्डा का छिंदवाड़ा आगमन आज

BJP के राष्ट्रीय अध्यक्ष जगत प्रकाश नड्डा का छिंदवाड़ा आगमन आज टेकचंद्र सनोडिया शास्त्री: सह-संपादक …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *