Breaking News

वैदिक सनातन हिन्दू धर्म में मंत्रों की दिव्य शक्तियों का वैज्ञानिक महत्व 

Advertisements

वैदिक सनातन हिन्दू धर्म में मंत्रों की दिव्य शक्तियों का वैज्ञानिक महत्व

Advertisements

टेकचंद्र शास्त्री:आयुर्विज्ञान और ज्योतिष रत्न विशेषज्ञ

Advertisements

मंत्र शब्द में मन का तात्पर्य मनन से है और त्र का तात्पर्य शक्ति और रक्षा से है. मंत्र में इतनी दिव्य शक्तियां होती है कि इससे अनिष्टकारी बाधाओं और। अनिष्ठ सूतक महापाप ग्रह व्याधिदोषों को बड़ी ही आसानी से दूर किया जा सकता है. आध्यात्मिक प्रगति, शत्रु नाश, अलौकिक शक्ति पाने, पाप नष्ट करने से लेकर बिगड़ हुए कार्यों को बनाने और तमाम कार्यों की सिद्धि के लिए मंत्रों का जाप किया जाता है

 

वैदिक मंत्र दिव्य शक्तियों से भरपूर होते हैं. मंत्र भक्त और भगवान को शीघ्र जोड़ने का सबसे उत्तम साधन हैं. वैदिक मंत्र तमाम शारीरिक और मानसिक, सूतक महापाप ग्रह व्याधिदोष जैसी परेशानियों से छुटकारा पाने में बहुत कारगर हैं. मंत्र कुछ विशेष प्रकार के शब्दों की एक संरचना है

वैदिक सनातन धर्म ज्योतिष में मंत्रों की दिव्य शक्तियों के संबंध में बहुत महत्व बतलाया गया है। विशेष रूप से ज्योतिष में 9 ग्रहों के लिए मंत्र या नवग्रह मंत्र हैं। ज्योतिष में प्रत्येक ग्रह का अपना एक महत्व है क्योंकि इन ग्रहों की सकारात्मकता या नकारात्मकता जातक के जीवन में लिए गए फैसलों को प्रभावित करती है। जैसा कि ज्योतिषी आपको बताएंगे कि जीवन में कुछ बेहतर करने या पाने के लिए ग्रहों, नक्षत्रों, वास्तु ऊर्जा और ईश्वर को प्रसन्न करना अच्छा रहता है। इन्हें प्रसन्न करने का एक तरीका है मंत्रों का उच्चारण।

 

ज्योतिष में वैदिक मंत्र क्या है?

 

इससे पहले कि हम ज्योतिष में मौजूद विभिन्न प्रकार के मंत्रों के बारे में जानें, सबसे पहले यह जान लेना जरूरी है कि मंत्र क्या होते हैं? उनका उपयोग कैसे किया जाता है और उच्चारण या जाप कैसे किया जाना चाहिए। साथ ही यह भी जानें कि जातक का मंत्रों के जाप से किस तरह के लाभ मिल सकते हैं?

 

हजारों वर्षों से प्राचीन वैदिक ज्योतिष

एक व्यक्ति के जीवन को आसान बनाने के बारे में रहा है। ऐसा करने के लिए वैदिक ज्योतिष में तीन प्रमुख उपाय हैं, मंत्र, यंत्र और रत्न।

 

मंत्र जाप समस्याओं को समझने और उन्हें हल करने का ना केवल सरल उपाय है बल्कि भगवान और ग्रहों को प्रसन्न करने के सबसे अच्छा तरीका भी है। वास्तव में, मंत्र जाप से आत्म संतुष्टि मिलती है और विचलित मन शांत होता है। इसलिए ज्योतिष में मंत्रों का केवल आध्यात्मिक लाभ ही नहीं होता बल्कि मनोवैज्ञानिक लाभ भी मिलता है।

 

वैदिक ज्योतिष में मंत्र पाठ्यक्रम या भजनों का एक संयोजन होता है। मंत्राें के सही उच्चारण से जातक को सार्वभौमिक ऊर्जा और आध्यात्मिक ऊर्जा पर केंद्रित करने में मदद मिलती है। मंत्र दुनिया में हजारों वर्षों से मौजूद हैं और वेदों सहित अतीत में लिखी गई कई धार्मिक पुस्तकों में इनका उल्लेख भी मिलता है। कई वर्षों में ऋषियों ने ज्योतिष में मंत्रों के पाठ के लाभों को महसूस किया है, वे मंत्रों की सूची में शामिल हो गए हैं।

 

मंत्र का सार इसके ‘मूल शब्द’ या बीज से आता है और इससे उत्पन्न शक्ति मंत्र शक्ति कहलाती है। मंत्र में प्रत्येक मूल शब्द किसी ग्रह या भगवान से जुड़ा होता है। मंत्र जाप शारीरिक रूप से आपको अपनी ध्वनि, श्वास और इंद्रियों पर केंद्रित करने के लिए प्रेरित करता है। मंत्रों द्वारा उत्पन्न ध्वनि में आपकी भावनाओं और आपके सोचने के तरीके को पूरी तरह से बदलने और आपको उच्च आध्यात्मिक स्तर पर ले जाने की क्षमता होती है। वास्तव में, नियमित रूप से मंत्रों का जाप व्यक्ति में आध्यात्मिक जागरूकता की भावना पैदा करता है और उसे जिंदगी को शांतिपूर्ण तरीके से जीने में मदद करता है।

 

आज योग के उद्भव और मानसिक, शारीरिक उपचार के रूप में इसकी विश्व स्तर पर स्वीकार्यता ने मंत्र जाप को एक प्रमुख मान्यता दी है। आज विज्ञान भी मंत्र की शक्ति पर विश्वास करता है। साथ ही लोगों के मन, शरीर, आत्मा की शांति और भलाई का अनुभव करने के लिए इसे अपने योग कार्यक्रम के साथ जोड़ने की सलाह देता है।

 

मन और मंत्रों के बीच संबंध

 

मंत्र आपको कई लाभ दिला सकते हैं। लेकिन अगर आपको लगता है कि मंत्रों का जाप आपकी जिंदगी में जादू की तरह काम करेगा और आपकी सभी समस्याओं को एक बार में ही फुर्र कर देगा, तो आपका बता दें कि यह आपका वहम है। अगर ज्योतिषी से आप यह पूछें कि मंत्र कैसे काम करता है, तो वह आपको बताएंगे कि यह आपके सोचने के तरीके को प्रभावित करता है। यह आपमें अच्छाई के लिए बदलाव लाता है। हालांकि, मंत्रों के इन अद्भुत लाभों को प्राप्त करने के लिए आपको रोजाना नियमित रूप से इनका जाप करना चाहिए।

 

‘मंत्र’ मूल रूप से प्राचीन संस्कृत भाषा का शब्द है। मंत्र दो शब्दों ‘मन’ और ‘त्र’ से मिलकर बना है। ‘मन’ का अर्थ है मन यानी चित्त और ‘त्र’ जिसका अर्थ है ‘उपकरण या यंत्र’। इस प्रकार एक मंत्र और कुछ नहीं बल्कि सोचने का एक यंत्र है। जब आप अपनी क्षमताओं के बारे में सोचते हैं, तभी आप अपनी जिंदगी में आवश्यक परिवर्तन कर सकते हैं। लेकिन यह सवाल जरूर पूछा जाना चाहिए कि आखिर हमारी सोचने की प्रक्रिया इतनी जटिल क्यों है? ज्योतिषियों का मानना है कि मनुष्य केवल बौद्धिक प्राणी नहीं है बल्कि भावनात्मक प्राणी भी है। मनुष्य को अपनी भावनात्मक कुशाग्रता के आधार पर निर्णय लेने की आदत होती है। इससे कई बार मन और भावनाओं का संतुलन बिगड़ जाता है। इस वजह से जातक कई बार फैसले लेने में भ्रमित हो जाता है। ऐसी स्थिति में मन को अपनी भावनाओं से जोड़ने के लिए मंत्र काम में आता है।

 

हमारा मन हमेशा कार्यशील रहता है। जबकि मंत्र जाप एक यंत्र के रूप में कार्य करता है और मन को कुछ देर के लिए स्थिर रखता है। इस तरह मन को कुछ देर के लिए विश्राम मिलता है। आप इसे इस तरह समझें, अगर अभी हमारा मन शांत होगा, तो हम अवचेतन मन से जुड़ पाएंगे। मंत्र हमें गहराई से सोचने के लिए जागरूक बनाता है, जिस वजह से हम अपनी जिंदगी में बेहतर निर्णय ले पाते हैं। आपको बताते चलें कि ज्योतिष में कुछ मंत्र केवल मधुर वाक्यांश हैं, जिनका कोई विशेष अर्थ भी नहीं है। उनका एकमात्र उद्देश्य किसी व्यक्ति की इंद्रियों को संगीत के रूप से ऊपर उठाना है, क्योंकि संगीत हमारी भावनाओं को सकारात्मक रूप से प्रभावित करता है। इस तरह, व्यक्ति मन और मस्तिष्क के बीच सही संतुलन से अपनी जिंदगी के लिए बेहतर निर्णय लेने में सक्षम होता है।

 

मंत्रों का ज्योतिषीय महत्व

 

भारत में जन्में शायद ही किसी व्यक्ति ने अपने जीवन में कभी मंत्रों का जाप ना सुना हो। हमारे यहां मंदिर, विवाह समारोह, भूमि पूजन से लेकर कई घरेलू कार्यक्रमों में पंडितों द्वारा मंत्रों का उच्चारण किया जाता है। असल में ग्रहों और देवताओं को प्रसन्न करने के लिए मंत्रों का जाप किया जाता है। साथ ही यह उनसे आशीर्वाद मांगने का भी एक तरीका है। ज्योतिष में कई मंत्र हैं जो दैवीय शक्ति से जुड़ते हैं।

 

जिस प्रकार ज्योतिष में सभी ग्रहों के लिए एक मंत्र होता है, उसी प्रकार ज्योतिष में प्रत्येक चक्र के लिए भी मंत्र होते हैं। इसलिए यदि आपके शरीर में कोई भी चक्र अवरुद्ध हो जाता है या आवश्यक ऊर्जा को स्थानांतरित करने में सक्षम नहीं है, तो इसके साथ जुड़े मंत्र का उच्चारण इसे खोलने में मदद कर सकता है और इसकी जीवन शक्ति ऊर्जा को बढ़ा सकता है।

 

इसके अलावा, मंत्र उच्चारण कई धर्मों का एक अनिवार्य हिस्सा है। एक मंत्र का जाप करने से जातक को ब्रह्मांड में उस देवत्व से जुड़ने में मदद मिलती है जिसे वह सत्ताधारी शक्ति (भगवान) के रूप में मानता है। आपने फिल्मों में देखा होगा या अपने बड़ों (या योग में भी) से सुना होगा कि कैसे सर्वोच्च शक्ति से जुड़ने के लिए हमें सबसे पहले अपने विचारों को एक चीज पर केंद्रित करना होता है। मंत्रों का उच्चारण ऐसा करने में मदद करता है। यह हमारे दिमाग को शांत करता है और हमें उस स्थिति को प्राप्त करने में मदद करता है, जहां हम अपनी आंतरिक चेतना को महसूस कर सकते हैं। हालांकि ऐसा करना कठिन है, लेकिन हमारे पास इसके लिए एक योजना है। आइए जानते हैं, वह क्या है?

 

मंत्र की 40 दिनों की अवधारणा

 

जिस तरह किसी भी चीज को आदत में लाने के लिए 21 दिन लगते हैं, उसी तरह आपकी चेतना को आध्यात्मिकता और मानसिक शांति की ओर ले जाने में लगभग 40 दिन का समय लगता है। ज्योतिषियों का सुझाव है कि यदि आप मंत्र जाप का अभ्यास करना चाहते हैं तो 40 दिनों के चक्र में दिन में 108 बार मंत्र का जाप करना चाहिए। किसी व्यक्ति की चेतना में बदलाव करने के लिए कम से कम 40 दिन जाप करने की आवश्यकता होती है। मंत्र उच्चारण से सबसे अच्छा फल पाने के लिए ध्यान कंद्रित करना भी जरूरी होता है। इसके अलावा संख्या 108, नाड़ियों की संख्या को संदर्भित करती है, जिन्हें मंत्र के आनंदमय पहलुओं को महसूस करने के लिए सक्रिय होने की आवश्यकता होती है।

 

वैदिक मंत्रों के पाठ का इतिहास

 

अधिकांश मंत्र संस्कृत में इसलिए लिखे गए हैं क्योंकि संस्कृत के शब्द शुद्ध कंपन (स्पंदन) उत्पन्न करते हैं। संस्कृत में मंत्र लिखे होने की वजह से ये चक्र में अवरोध पैदा नहीं होने देते। मंत्रों का इतिहास 1000 ईसा पूर्व के ग्रंथों में देखे जा सकते हैं। ‘ओम’ शब्द सबसे छोटा और सरल मंत्र है। माना जाता है कि पृथ्वी में उत्पन्न होने वाली यह पहली ध्वनि है। इसे और सरल भाषा में समझें कि मंत्र आध्यात्मिक व्याख्याओं के साथ मधुर वाक्यांश होते हैं जैसे कि सत्य, वास्तविकता, प्रकाश, अमरता, शांति, प्रेम, ज्ञान और क्रिया।

 

आज मंत्र की संरचना और प्रकार धर्म के अनुसार भिन्न होते हैं – हिंदू धर्म, जैन धर्म, बौद्ध धर्म या सिख धर्म। लेकिन कहा जाता है, कि इनमें से अधिकांश मंत्र वैदिक विचारधारा से उत्पन्न हुए हैं। ऋग्वेद संहिता में लगभग 10552 मंत्र हैं, जिन्हें मंडल नामक दस पुस्तकों में वर्गीकृत किया गया है। एक मंत्र अलग-अलग रूप ले सकता है जिसमें (ऋग्वेद से छंद) और (सामवेद से संगीत मंत्र) शामिल हैं।

 

वैदिक काल से, ऋषियों द्वारा भजन, छंदों का वर्णन और पाठ किया जाता रहा है। हालाँकि, ऋषि इन मंत्रों के निर्माता नहीं हैं। वे केवल मंत्रों के अपने ज्ञान को दूसरों से साझा करते हैं। मंत्रों के निर्माण के लिए वैदिक कवियों को श्रेय देना चाहिए। वैदिक कवि कविताओं से प्रेरित थे और उन्हें जड़ धी के रूप में संदर्भित किया, जो हिंदू धर्म के ध्यान में विकसित हुआ।

 

मध्य वैदिक काल में, मंत्र सभी वैदिक रचनाओं से प्राप्त हुए थे। उनमें (ऋग्वेद से छंद), सामन (सामवेद से संगीत मंत्र), यजुस (यजुर्वेद से एक विकृत सूत्र) और निगड़ा (एक जोर से बोली जाने वाली यजुस) शामिल थे।

 

इसके बाद लोगों की कई जरूरतों को पूरा करने के लिए हिंदू महाकाव्यों की अवधि के दौरान वेदों में वृद्धि हुई। वास्तव में, तांत्रिक विद्यालयों सहित मंत्रों के विभिन्न विद्यालयों का उदय हुआ। लिंग पुराण में, मंत्र को भगवान शिव के 1008 नामों में से एक के रूप में सूचीबद्ध किया गया है।

 

ज्योतिष में मंत्रों के प्रकार

 

सदियों से मंत्रों में विविधता आई है और निश्चित रूप से इस सूची में बहुत कुछ शामिल भी हुआ है। वास्तव में मंत्रों को लोगों की आवश्यकताओं के अनुसार वर्गीकृत किया गया है। इसलिए वर्गीकरण के साथ विभिन्न प्रकार के मंत्र उभरे हैं। ये मंत्र ज्योतिष में ग्रहों, देवताओं, नक्षत्रों और प्रेम, विवाह, स्वास्थ्य आदि जैसे कई अन्य पहलुओं से जुड़े हैं। कुल मिलाकर, आज ज्योतिष में लगभग 70 मिलियन मंत्र हैं। समझाने वाले के तरीके पर यह बात निर्भर करती है कि ये मंत्र आपके लिए काम करेंगे या नहीं। कोई भी एक मंत्र किसी दूसरे मंत्र से बेहतर या कमतर नहीं होता।

 

जब मंत्रों के प्रकार की बात की जाती है, तो यहां तीन प्रकार के मंत्र हैं, बीज मंत्र, सगुण मंत्र और निर्गुण मंत्र।

 

1. बीज मंत्र (beej mantra)

सबसे पवित्र मंत्रों में से एक ‘ओम’ है। यह एक बीज मंत्र है, जिसका अर्थ है एक बीज ध्वनि जो सभी मंत्रों का आधार बनती है। ओम एक सार्वभौमिक बीज मंत्र है क्योंकि इसे विभिन्न धर्मों में स्थान मिला है। कई और भी बीज मंत्र हैं जो ज्योतिष में अन्य सभी मंत्रों का आधार बनते हैं। इनमें से प्रत्येक बीज मंत्र किसी न किसी देवता से जुड़ा हुआ है। जब ध्यान और भक्ति के साथ जप किया जाता है, तो बीज मंत्र किसी भी जातक की इच्छा को पूरा करने में मदद करते हैं।

 

अन्य बीज मंत्र हैं

क्रीं – करीम बीज मंत्र देवी काली से जुड़ा है। इस बीज मंत्र का जाप करने से जातक को आत्मविश्वास मिलता है। करीम बीज मंत्र का जाप करने से शक्ति और ज्ञान की प्राप्ति भी होती है।

 

श्रीं – इस बीज मंत्र का संबंध महालक्ष्मी से है। इस मंत्र के जाप से जातक को सामाजिक प्रतिष्ठा और धन की प्राप्ति होती है।

 

ह्रौं – यह बीज मंत्र शिव से जुड़ा है। हौं बीज मंत्र का जाप करने से जातक को मृत्यु, निराशा, रोग आदि से लड़ने में मदद मिलती है। यह बीज मंत्र मुक्ति की प्राप्ति में मदद करता है।

 

दूं – देवी दुर्गा का बीज मंत्र है दूं। इस बीज मंत्र का जाप करने से मनोकामना पूर्ति होती है। यह बीज मंत्र जातक को शक्ति भी प्रदान करता है।

 

ह्रीं – ह्रीं बीज मंत्र का संबंध देवी भुवनेश्वरी से है। यह मंत्र आपको शिव और पार्वती का आशीर्वाद देते हैं, जो कि जातक के जीवन से दुखों को दूर करने में मदद करता है।अकेलापन

 

ऐं – यह मंत्र देवी सरस्वती से जुड़ा हुआ है। यह बीज मंत्र जातक को साहस, आत्मविश्वास और संचार कौशल हासिल करने में मदद करता है।

 

गं – भगवान गणेश का बीज मंत्र गं है। इस मंत्र के जाप से जातक के जीवन में ज्ञान और सुख की प्राप्ति होती है।

 

फ्रौं – फ्रौं बीज मंत्र भगवान हनुमान से जुड़ा है। यह बीज मंत्र जातक को शक्ति और सुरक्षा देता है और उसके डर को दूर करने में उसकी मदद करता है।

 

दं – दं भगवान विष्णु का बीज मंत्र है। इस मंत्र का जाप करने से जातक को सुखी वैवाहिक जीवन, धन और अच्छे स्वास्थ्य की प्रचुरता प्राप्त करने में मदद मिलती है।

 

भ्रं – शक्तिशाली बीज मंत्र भगवान भैरव से जुड़ा है। यह बीज मंत्र जातक को किसी भी तरह के कोर्ट केस से निपटने में मदद करता है और जातक को प्रसिद्धि भी दिलाता है।

 

धूं – धूं बीज मंत्र का संबंध देवी धूमावती से है। मंत्र जाप से जातक को शत्रुओं से मुक्ति मिलती है।

 

2. सगुण मंत्र (saguna mantra)

सगुण एक संस्कृत शब्द है। इसका अर्थ है, “गुणों के साथ” या “गुण युक्त।” सगुण मंत्रों को देवता मंत्र कहा जाता है, क्योंकि वे अक्सर परमात्मा के किसी न किसी रूप पर ध्यान केंद्रित करते हैं।

 

3. निर्गुण मंत्र (nirguna mantra)

 

निर्गुण मंत्र, जिनके बारे में कहा जाता है कि वे वैदिक ग्रंथों से उत्पन्न हुए हैं और इस प्रकार यह सबसे पुराने मंत्र हैं। इन शब्दों से किसी देवता का आह्वान नहीं किया जाता है। निर्गुण मंत्रों की व्याख्या करना बहुत कठिन है और माना जाता है कि उनका कोई विशिष्ट रूप या अर्थ नहीं है। कहा जाता है कि इन मंत्रों की पूरी सृष्टि के साथ अपनी पहचान है और योग दर्शन में मौलिक सत्य समाहित हैं। ऐसा कहा जाता है कि अमूर्त निर्गुण मंत्रों पर ध्यान केंद्रित करने में सक्षम होने के लिए मस्तिष्क का मजबूत होना बहुत जरूरी है।

 

मंत्र जाप के लाभ

 

ज्योतिष के अनुसार पूजा-प्राथर्ना या अन्य अनुष्ठानों के दौरान देवताओं की प्रार्थना करने, मंत्र जाप करने से कई लाभ होते हैं। ज्योतिष के अनुसार मंत्र जाप के कुछ लाभ इस प्रकार हैं।

 

हम सबके जन्म के साथ कुंडली में कुछ ऐसे ग्रह विराजमान होते हैं, जिसकी वजह से हमाररी स्थिति दुर्बल हो जाती है। इससे हामरा विकास भी प्रभावित होता है। कमजोर ग्रहों को प्रसन्न करने के लिए मंत्रों का जाप करना एक उपाय है। हर ग्रह के लिए ज्योतिष में मंत्र हैं।

वास्तव में, मंत्रों का उपयोग लाभकारी ग्रहों को प्रसन्न करने और आपकी कुंडली में उन्हें और मजबूत करने के लिए भी किया जा सकता है।

मंत्रों की सबसे अच्छी बात यह है कि वे केवल सकारात्मक प्रभाव देते हैं।

मंत्र स्वास्थ्य, धन, सुख, प्रेम और सफलता को आकर्षित करने में आपकी मदद कर सकते हैं।

कुछ मंत्रों का जाप करने से आलस्य, रोगों और परेशानियों को दूर करने में मदद मिल सकती है।

कई मनोचिकित्सकों का मानना है कि मंत्र जाप तनाव को कम करने में मदद करता है।

इसके अतिरिक्त, मंत्र जाप आपके दिमाग को क्लियर करता है और तंत्रिका तंत्र को शांत करता है।

मंत्रों का जाप और ध्यान हृदय गति को धीमा करने में मदद करता है और इसके परिणामस्वरूप रक्तचाप का स्तर कम होता है।

मंत्रों के जाप से मन को आराम मिलता है, इससे ऑक्सीजन की खपत भी कम होती है।

मंत्रों का जाप गहरी नींद के माध्यम से आराम प्राप्त कराने में मदद करता है।

ध्यान करने वालों का विचार है कि कुछ शब्दांशों के जप के कंपन से गहरी ध्यान की स्थिति पैदा हो सकती है, जो किसी भी अवरुद्ध ऊर्जा को मुक्त करने या चक्रों को खोलने में मदद करती है।

मंत्र ध्यान मस्तिष्क के स्वास्थ्य को बेहतर बनाने में मदद कर सकता है। आप चीजों को बेहतर तरीके से और लंबे समय तक बनाए रखने में सक्षम हो सकते हैं।

ध्यान करते समय किसी मंत्र को दोहराने से आपको सांस लेने की प्राकृतिक लय खोजने में भी मदद मिल सकती है।

दैनिक आधार पर मंत्र जप से आपका मूड अच्छा हो सकता है।

ज्योतिष में ग्रहों के लिए मंत्र

 

नवग्रह, नौ ग्रह हैं जो ज्योतिष के अनुसार पृथ्वी पर प्रत्येक व्यक्ति की कुंडली पर शासन करते हैं। इन ग्रहों का प्रभाव ही किसी भी जातक के भाग्य का फैसला करने में मदद करता है। आपकी कुंडली में ग्रह कैसे या किसके साथ है, इसके आधार पर ग्रह का प्रभाव या तो सकारात्मक या नकारात्मक हो सकता है। उदाहरण के लिए कुंडली में एक ग्रह नकारात्मक जगह में स्थित हो सकता है या नकारात्मक संकेत लिए हो सकता है। नतीजतन इसके परिणाम भी बुरे हो सकते हैं। ऐसी स्थितियों में अपने जीवन में किसी ग्रह के बुरे प्रभावों का मुकाबला करने के लिए मंत्र का प्रयोग बल के रूप में करने से मदद मिल सकती है। इसलिए ज्योतिष में सभी नौ ग्रहों के लिए मंत्र हैं।

 

दिव्य दृष्टी दिव्य शक्ति पाने का वैदिक मंत्र

 

ऊं ब्रम्होशो गरुणध्वजो भृगुसुतो भारध्वजो गौतमो ऊं नम: ब्रम्ह देव, दिव्य शक्ति दिव्य दृष्टी देव, भक्तजनों को सुख समृद्घि देव,दुष्टजनों को सद बूद्धी देवो। ऊं नम: ब्रम्ह देव।।

 

सूर्य मंत्र (surya mantra)

 

“ॐ ह्रीं ह्रीं सूर्याय नमः” अपने लिए सर्वोत्तम परिणाम देखने के लिए 40 दिनों के भीतर सूर्य बीज मंत्र का 7000 बार जप करें।

 

सूर्य मंत्र के बारे में विस्तार से यहां पढ़ें यहां पढ़ें

 

चंद्र मंत्र (chandra mantra)

“ॐ ऐं क्लीं सोमाय नम:” 40 दिनों की अवधि के अंदर चंद्र बीज मंत्र का 11,000 बार जप करें।

 

चंद्र मंत्र के बारे में विस्तार से यहां पढ़ें यहां पढ़ें

 

मंगल मंत्र (mangal mantra)

“ॐ हूं शृं भौमाय नमः” 40 दिनों की अवधि के अंदर 10,000 बार मंगल मंत्र का जप करने से आपको सर्वोत्तम परिणाम मिल सकते हैं।

 

बुद्ध मंत्र के बारे में विस्तार से यहां पढ़ें यहां पढ़ें

 

बुध मंत्र (budh mantra)

“ॐ ऐं श्रीं श्रीं बुधाय नमः” बुध बीज मंत्र का सर्वोत्तम परिणाम प्राप्त करने के लिए 40 दिनों की अवधि के अंदर 9000 बार इसका जाप करें।

 

बुद्ध मंत्र के बारे में विस्तार से यहां पढ़ें यहां पढ़ें

 

गुरु मंत्र (guru mantra)

“ॐ ह्रीं क्लिंग हं बृहस्पतये नमः” सर्वोत्तम परिणामों के लिए 40 दिनों के अंदर गुरु बीज मंत्र का 19,000 बार जाप करें।

 

गुरु मंत्र के बारे में विस्तार से यहां पढ़ें यहां पढ़ें

 

शुक्र मंत्र (shukra mantra)

“ॐ ह्रीं श्रीं शुक्राय नमः” मंत्र का 40 दिनों केअंदर 16,000 बार जाप करना चाहिए।

 

शुक्र मंत्र के बारे में विस्तार से यहाँ पढ़ें यहां पढ़ें

 

शनि मंत्र (shani mantra)

“ॐ ऐं ह्रीं श्रीं शनैश्चराय नमः” शनि बीज मंत्र का 40 दिनों के अंदर 23,000 बार जाप करना चाहिए जिससे इसका सर्वोत्तम लाभ मिल सके।

 

शनि मंत्र के बारे में विस्तार से यहां पढ़ें यहां पढ़ें

 

राहु मंत्र (rahu mantra)

“ऐं रां राहवे नमः” राहु को प्रसन्न करने के लिए 40 दिनों की समय सीमा के भीतर इस मंत्र का 18,000 बार जाप करें।

 

राहु मंत्र के बारे में विस्तार से यहाँ पढ़ें यहां पढ़ें

 

केतु मंत्र (ketu mantra)

“ॐ ह्रीं ऐं केतवे नमः” केउ बीज मंत्र का 40 दिनों के भीतर 17,000 बार जाप करें।

 

सहर्ष सूचनार्थ नोट्स:-

उपरोक्त लेख सामान्य ज्ञान की दृष्टी से हमारे वैदिक सनातन धर्म ग्रन्थों आयुर्विज्ञान, ज्योतिष विज्ञान महापुरुषों और संत महात्मओं के प्रवचनों से संकलित किया गया है।

Advertisements

About विश्व भारत

Check Also

(भाग:304) मां शक्ति स्वरूपा दुर्गा का एक रूप प्रेमभक्ति का भी है प्रतीक माना जाता है

(भाग:304) मां शक्ति स्वरूपा दुर्गा का एक रूप प्रेमभक्ति का भी है प्रतीक माना जाता …

(भाग:303) नवरात्र में नौ दुर्गा को आदिशक्ति जगत जननी जगदम्बा भी कहा जाता है

(भाग:303) नवरात्र में नौ दुर्गा को आदिशक्ति जगत जननी जगदम्बा भी कहा जाता है टेकचंद्र …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *