Breaking News

सीनियर अधिवक्ता के साथ दुर्व्यवहार पर सुप्रीम कोर्ट सख्त? सरकार को नोटिस जारी! कह दी बड़ी बात

Advertisements

सीनियर अधिवक्ता के साथ दुर्व्यवहार पर सुप्रीम कोर्ट सख्त? सरकार को नोटिस जारी! कह दी बड़ी बात

Advertisements

टेकचंद्र सनोडिया शास्त्री: सह-संपादक रिपोर्ट

Advertisements

नई दिल्ली: नोएडा के सूरजपुर की जिला अदालत में सीनियर अधिवक्ता गौरव भाटिया से बदसलूकी के मामले में सुप्रीम कोर्ट ने अब यूपी सरकार को नोटिस जारी किया है। जिला अदालत के परिसर में सीसीटीवी कैमरे खराब होने को लेकर सुप्रीम कोर्ट ने यह नोटिस जारी किया है। अदालत ने पूछा है कि आखिर कैमरों का मेंटनेंस क्यों नहीं कराया गया। गौरव भाटिया वरिष्ठ अधिवक्ता हैं और भाजपा के प्रवक्ता भी हैं। वह मार्च में एक केस की पैरवी के लिए जिला अदालत पहुंचे थे। उन्हें देखकर स्थानीय वकील भड़क गए थे और उनसे धक्का-मुक्की करने लगे थे। इस दौरान उनका बैंड भी छीन लिया गया। Also Read – जामनगर के बड़े वागुदाद गांव में पुरूषोत्तम रूपाला के खिलाफ विरोध प्रदर्शन Advertisement चीफ जस्टिस डीवाई चंद्रचूड़, जस्टिस जेपी पारदीवाला और जस्टिस मनोज मिश्रा की बेंच ने कहा कि अदालत में सीसीटीवी कैमरे काम ही नहीं कर रहे थे। उन्हें ठीक कराने के लिए लगातार पत्र लिखे गए, लेकिन उन्हें सुधारा नहीं गया। दरअसल गौरव भाटिया से बदसलूकी के मामले में सुप्रीम कोर्ट ने जिला अदालत प्रशासन को आदेश दिया था कि वहां लगे सीसीटीवी कैमरों को सुरक्षित रखा जाए। अब जानकारी मिली है कि सीसीटीवी फुटेज नहीं मिल सकती क्योंकि वह लगे कैमरे ही खराब थे। सुनवाई के दौरान शीर्ष अदालत ने कहा कि हम इस मामले को हल्के में नहीं लेंगे। Also Read – पानी की बाल्टी छूने पर 8 साल के दलित लड़के की स्कूल परिसर में पिटाई खुद मुख्य न्यायाधीश चंद्रचूड़ ने इस मसले पर तीखी प्रतिक्रिया दी। उन्होंने कहा, ‘हम इस मामले को हल्के में नहीं लेंगे। कोई भी वकील दूसरे अधिवक्ता को इस बात के लिए मजबूर नहीं कर सकता कि वह मामले की पैरवी न करे और अदालत से चला जाए।’ यही नहीं इस दौरान सुप्रीम कोर्ट बार एसोसिएशन के अध्यक्ष अदीश अग्रवाला ने कहा कि बार एसोसिएशन का कोई नेता भी वकीलों को हड़ताल के लिए मजबूर नहीं कर सकता। हालांकि उन्होंने कहा कि वकीलों को यह अधिकार है कि वह अदालत से मांग करेंगे कि हड़ताल की मंजूरी दी जाए। Also Read – 55 लाख का गांजा पकड़ाया, दो शातिर अपराधी गिरफ्तार बार एसोसिएशन के चीफ ने कहा कि कोई नेता भी ऐसा नहीं कर सकता, लेकिन अदालत से आग्रह जरूर किया जा सकता है। इस पर चीफ जस्टिस ने कहा कि ऐसा नहीं है। कोई भी वकील दूसरे अधिवक्ता से यह नहीं कह सकता कि हम आपको आने ही नहीं देंगे। दरअसल 21 मार्च को ग्रेटर नोएडा स्थित जिला अस्पताल में वकीलों ने हड़ताल की थी। इस बीच गौरव भाटिया और एडवोकेट मुस्कान गुप्ता एक केस की पैरवी के लिए पहुंचे थे। इस दौरान वकीलों ने हंगामा कर दिया और उनसे बदसलूकी की है।

Advertisements

About विश्व भारत

Check Also

टोलनाके होणार बंद? नवी यंत्रणा कशी असेल?

केंद्र सरकारने पथकर संकलनासाठी ग्लोबल पोझिशनिंग सिस्टीम (जीपीएस) आधारित यंत्रणा आणण्याची योजना आखली आहे. ही …

“सरकार आणि अधिकारी अपयशी ठरत असताना…” : सर्वोच्च न्यायालयाचे न्यायमूर्ती भूषण गवई यांचे विधान

सर्वोच्च न्यायालयाचे न्यायमूर्ती आणि विदर्भपुत्र भूषण गवई यांचे एक मोठे विधान समोर आले आहे. “सरकार …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *