Breaking News

विश्व भर के मजदूरों और श्रमिकों को सम्मान देने के उद्देश्य से मनाया जाता है मजदूर दिवस

Advertisements

विश्व भर के मजदूरों और श्रमिकों को सम्मान देने के उद्देश्य से मनाया जाता है मजदूर दिवस

Advertisements

टेकचंद्र सनोडिया शास्त्री: सह-संपादक रिपोर्ट

Advertisements

मजदूरों और श्रम वर्ग को समर्पित है। यह मजदूरों की कड़ी मेहनत को सम्मानित करने का दिन है। यह पूरे विश्व में विभिन्न देशों में मनाया जाता है। ज्यादातर देशों में इसे 1 मई को अंतरराष्ट्रीय मजदूर दिवस के रूप में मनाया जाता है। श्रम दिवस का इतिहास और उत्पत्ति अलग-अलग देशों में अलग-अलग है।
श्रमिकों के सम्मान देने के उद्देश्य के साथ ही मजदूरों के अधिकारों के लिए आवाज उठाने के लिए भी इस दिन को मनाते हैं, ताकि मजदूरों की स्थिति देश-दुनिया में मजबूत हो सके। मजदूर किसी भी राज्य और देश के विकास में अहम भूमिका निभाते हैं। लगभग हर काम मजदूरों के श्रम पर निर्भर करता है। मजदूर क्षेत्र विशेष के उत्पादन के लिए श्रम करते हैं।
मजदूरों के पक्ष में 1886 से पहले अमेरिका में आंदोलन की शुरुआत हुई थी। इस आंदोलन में अमेरिका के मजदूर सड़कों पर उतर गए। अपने हक के लिए बड़ी संख्या में मजदूर हड़ताल पर चले गए। इस आंदोलन की मुख्य वजह मजदूरों की कार्य अवधि थी। उस दौरान मजदूर एक दिन में 15-15 घंटे तक काम करते थे। इस आंदोलन के दौरान मजदूरों पर पुलिस ने गोली चला दी। इस दौरान कई मजदूरों को जान गंवानी पड़ी।
इस घटना के तीन साल बीतने के बाद 1889 में अंतर्राष्ट्रीय समाजवादी सम्मेलन की बैठक हुई। इस बैठक में यह तय किया गया कि हर मजदूर से प्रतिदिन 8 घंटे ही काम लिया जाएगा। वहीं सम्मेलन के बाद 1 मई को मजदूर दिवस मनाने का फैसला लिया गया। इस दिन हर वर्ष मजदूरों को छुट्टी देने का भी फैसला लिया गया। बाद में अमेरिका के मजदूरों की तरह अन्य कई देशों में भी मजदूरों के लिए 8 घंटे काम करने के नियम को लागू कर दिया गया।
अमेरिका में मजदूर दिवस मनाने का प्रस्ताव 1 मई 1889 को लागू हो गया लेकिन भारत में 1 मई को मजदूर दिवस मनाने की शुरुआत इसके लगभग 34 साल बाद हुई। भारत में भी मजदूर अत्याचार और शोषण के खिलाफ आवाज उठा रहे थे। मजदूरों का नेतृत्व वामपंथी कर रहे थे। मजदूरों के आंदोलन को देखते हुए 1 मई 1923 में पहली बार चेन्नई में मजदूर दिवस मनाया गया। लेबर किसान पार्टी ऑफ हिंदुस्तान की अध्यक्षता में मजदूर दिवस मनाने की घोषणा की गई। कई संगठन और समाजवादी पार्टियों ने इस फैसले का समर्थन किया।
हालांकि मजदूर दिवस का इतिहास और मूल विभिन्न देशों में अलग है परन्तु इसके पीछे मुख्य कारण लगभग एक है और यह है- श्रम वर्ग का अनुचित व्यवहार। देश के बुनियादी ढांचागत विकास में बहुत अधिक योगदान देने वाले मजदूर वर्ग के साथ खराब व्यवहार बेहद दुर्भाग्यपूर्ण था। दुनिया के विभिन्न हिस्सों में इसके खिलाफ कई आंदोलन हुए और उसके बाद मजदूर दिवस अस्तित्व में आया।

भारत में पहली बार श्रम दिवस 1 मई 1923 को मनाया गया था। यह दिवस भारतीय श्रमिक किसान पार्टी ऑफ हिंदुस्तान द्वारा मद्रास में आयोजित किया गया था। इस दिन कॉमरेड सिंगारवेलियर ने राज्य में विभिन्न स्थानों पर दो बैठकें आयोजित कीं। इनमें से एक बैठक का आयोजन ट्रालीकलान बीच पर किया गया था और दूसरी बैठक को मद्रास हाई कोर्ट के समीप समुद्र तट पर किया गया था। उन्होंने एक संकल्प पारित कर कहा कि सरकार को इस दिन राष्ट्रीय अवकाश की घोषणा करना चाहिए।
भारत में श्रम दिवस को अंतरराष्ट्रीय श्रमिक दिवस या कामगार दिन के नाम से जाना जाता है। हालांकि देश के विभिन्न राज्य इसे विभिन्न नामों से जानते हैं। तमिल में इसे उज्हैपलर धीनाम के नाम से जाना जाता है, महाराष्ट्र में कामगार दिवस, मलयालम में इसे थोझिलाली दीनाम के रूप में जाना जाता है और कन्नड़ में इसे कर्मिकारा दीनाचारेन कहा जाता है।
विश्व के अन्य देशों की तरह मजदूर दिवस भारत में भी मजदूरों व श्रमिक वर्ग से संबंधित लोगों के लिए उत्सव का दिन है। इस दिन विभिन्न संगठनों द्वारा मजदूरों के खिलाफ किसी भी अन्यायपूर्ण बातों के खिलाफ विरोध प्रदर्शन किया जाता है। श्रमिकों के बीच एकता कायम रखने के लिए श्रमिक संगठनों की ओर से आयोजन किया जाता है। इसमें यूनियन के प्रमुख नेता भाषण देते हैं। संगठन की ओर से मजदूरों के हित की बात की जाती है। को बढ़ावा देने के लिए प्रमुख नेताओं द्वारा भाषण दिए जाते हैं। श्रमिक संघ भी पिकनिक और अन्य मनोरंजक गतिविधियों का संचालन करते हैं।

श्रम दिवस की शुरुआत यह बताती है कि यदि हम एकजुट होकर रहें तो कुछ भी असंभव नहीं है। मजदूरों की एकता से ट्रेड यूनियनों का गठन हुआ और वे मजदूरों के अन्यायपूर्ण व्यवहार के खिलाफ मजबूत बनते गए। ट्रेड यूनियनों के संयुक्त प्रयासों ने सरकार को श्रमिकों के पक्ष में कानून बनाने के लिए मजबूर किया।
दुनियाभर में श्रमिकों के सम्मान के लिए हर साल 1 मई को मजदूर दिवस मनाया जाता है। मजदूर दिवस को मई दिवस भी कहा जाता है। यह हर साल 1 मई को अंतरराष्ट्रीय स्तर पर मनाया जाता है। कई विभागों में इस दिन छुट्‌टी रहती है।
यह दिन मजदूरों द्वारा किये गये योगदान का प्रतीक है। वे हमारे जीवन को आरामदायक बनाने के लिए दिन-रात मेहनत करते हैं। स्कूल-कॉलेजों में सभी चतुर्थ श्रेणी कर्मचारियों का मंच पर अभिनंदन किया जाता है। कुछ समाज अपने यहां काम करने वाले सभी श्रमिकों को उपहार देकर उनके चेहरे पर मुस्कान लाने की पहल भी करते हैं।

भारत में पहला मजदूर दिवस 1 मई 1923 को चेन्नई में मनाया गया था। पहला मई दिवस समारोह लेबर किसान पार्टी ऑफ हिंदुस्तान द्वारा आयोजित किया गया था। भारत में मजदूर दिवस को सार्वजनिक अवकाश माना गया है।
मई दिवस या मजदूर दिवस को कई नामों से जाना जाता है जैसे हिंदी में ‘कामगार दिन’ या ‘अंतर्राष्ट्रीय श्रमिक दिवस’, तमिल में ‘उझाओपालर नाल’ और मराठी में ‘कामगार दिवस’।

हम उपलब्धियों को पहचानने और कर्मचारियों को प्रेरित करने के लिए हर साल इस दिन को मनाते हैं।

अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर इसे श्रमिक वर्ग की छुट्टी के रूप में मनाया जाता है।

भारत का पहला मजदूर दिवस 1923 में मद्रास (अब चेन्नई) प्रांत में मनाया गया था।

भारत में मई दिवस उत्सव की व्यवस्था करने वाला पहला समूह लेबर किसान पार्टी ऑफ़ हिंदुस्तान था।

इसकी शुरुआत कर्मचारियों के लिए सप्ताह में 8 घंटे के कार्य के पक्ष में शिकागो में एक विरोध आंदोलन के रूप में हुई।

हम भारत सहित दुनिया भर के 80 से अधिक देशों में इसे छुट्टी के रूप में मनाते हैं।

इसकी जड़ें संयुक्त राज्य अमेरिका में 19वीं सदी के श्रमिक संघ आंदोलन में भी हैं। उस समय उद्योगपति श्रमिक वर्ग से प्रतिदिन 15 घंटे तक काम करवाकर उनका शोषण करते थे।

यह मजदूरों के बीच उनके अधिकारों के बारे में ज्ञान फैलाने में मदद करता है।

यह नागरिकों को श्रमिकों की कड़ी मेहनत के बारे में भी जागरूक करता है ताकि वे उन्हें 8 घंटे से अधिक काम करने के लिए मजबूर करके उनका दुरुपयोग न करें।
सभी को सुप्रभात, मेरा नाम रिया है और मैं ऑक्सिलियम कॉन्वेंट की छात्रा हूं। आज, मैं आपके सामने ऐसे लोगों के समूह को श्रद्धांजलि देने के लिए खड़ी हूं जिन पर अक्सर किसी का ध्यान नहीं जाता, लेकिन जो हमारे समाज के कामकाज में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं – वे हैं श्रमिक।

मजदूर दिवस मजदूर वर्ग के योगदान का जश्न मनाने और उसे स्वीकार करने और बेहतर कामकाजी परिस्थितियों और उचित मजदूरी के लिए लड़ने वालों के बलिदान को याद करने का दिन है। यह हमारे समाज की रीढ़, गुमनाम नायकों का जश्न मनाने का दिन है जो हमारी दुनिया को एक बेहतर जगह बनाने के लिए हर दिन कड़ी मेहनत करते हैं।

हम अक्सर उन सेवाओं और उत्पादों को हल्के में लेते हैं जो हमें श्रमिकों द्वारा प्रदान किए जाते हैं। जिन सड़कों पर हम गाड़ी चलाते हैं, जो खाना हम खाते हैं, जो कपड़े हम पहनते हैं, ये सभी चीजें श्रमिकों की कड़ी मेहनत से संभव हुई हैं। वे वे लोग हैं जो लंबे समय तक काम करते हैं, चुनौतीपूर्ण परिस्थितियों का सामना करते हैं और हमारे समुदायों के लाभ के लिए अपने स्वास्थ्य और सुरक्षा को दांव पर लगाते हैं।

लेकिन मजदूर दिवस सिर्फ श्रमिकों का जश्न मनाने से कहीं अधिक है। यह उनकी गरिमा और मूल्य को पहचानने और यह सुनिश्चित करने के बारे में है कि उनके साथ सम्मान और निष्पक्षता से व्यवहार किया जाए। यह इस बात को सुनिश्चित करने के बारे में है कि श्रमिकों को सुरक्षित कामकाजी परिस्थितियां, उचित वेतन और अपने हितों की रक्षा के लिए यूनियन बनाने का अधिकार मिले। आइए हम दुनिया को सभी श्रमिकों के लिए एक बेहतर जगह बनाने के लिए प्रतिबद्ध हों।
सभी को सुप्रभात, और ऑक्सिलियम कॉन्वेंट स्कूल में मजदूर दिवस के हमारे उत्सव में हार्दिक स्वागत है। मेरा नाम इंद्रिता है, और इस महत्वपूर्ण अवसर पर भाषण देने के लिए, इस महान संस्थान के एक गौरवान्वित छात्रा के रूप में आज आपके सामने खड़ा होना मेरे लिए सम्मान की बात है।

मजदूर दिवस सभी श्रमिकों के योगदान को पहचानने और जश्न मनाने का दिन है, चाहे उनका पेशा या उद्योग कुछ भी हो। यह काम के महत्व पर विचार करने और हर दिन हमारे समाज और अर्थव्यवस्था को चलाने वाले पुरुषों और महिलाओं को श्रद्धांजलि देने का दिन है।

आज के समाज में, व्यक्तियों के लिए उस महत्वपूर्ण भूमिका को नज़रअंदाज़ करना बहुत आम बात है जो प्रत्येक कार्यकर्ता हमारे समुदायों के निर्माण में निभाता है। हमारे समाज के हर क्षेत्र में श्रमिकों के छोटे, फिर भी महत्वपूर्ण योगदान को हल्के में लेना आसान है। हालांकि, वास्तविकता यह है कि प्रत्येक कार्यकर्ता, चाहे उनका पेशा कुछ भी हो, हमारे समाज के सफल संचालन के लिए महत्वपूर्ण है।

उदाहरण के लिए, किसान हमारी खाद्य उत्पादन प्रणाली की रीढ़ हैं। वे ऐसी फसलें उगाने के लिए अथक परिश्रम करते हैं जो हमारे परिवारों का भरण-पोषण करती हैं और हमारे समुदायों का भरण-पोषण करती हैं। ये मेहनती व्यक्ति अक्सर भीषण परिस्थितियों में काम करते हैं, चरम मौसम का सामना करते हैं और हमें जीवित रहने के लिए आवश्यक जीविका प्रदान करने के लिए लंबे समय तक काम करते हैं। उनके बिना, हमें ताज़ा, पौष्टिक भोजन नहीं मिल पाता जिसे हम अक्सर हल्के में लेते हैं।

इसी तरह, शिक्षक हमारे बच्चों के विकास और शिक्षा के अभिन्न अंग हैं। वे अगली पीढ़ी के दिमाग को आकार देते हैं, ज्ञान और ज्ञान प्रदान करते हैं जो जीवन भर हमारे बच्चों के साथ रहेगा। वे हमारे बच्चों को शैक्षणिक और भावनात्मक रूप से सीखने, बढ़ने और विकसित होने के लिए एक सुरक्षित और पोषणपूर्ण वातावरण प्रदान करते हैं। शिक्षक हमारे बच्चों को जीवन में सफल होने के लिए आवश्यक कौशल और ज्ञान से लैस करके, हमारे समाज का भविष्य सुनिश्चित करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं।

लेकिन यह सिर्फ काम के महत्व को स्वीकार करने के बारे में नहीं है। यह सभी श्रमिकों की मानवीय गरिमा को पहचानने और यह सुनिश्चित करने के बारे में भी है कि उनके साथ वह सम्मान और गरिमा के साथ व्यवहार किया जाए जिसके वे हकदार हैं। चाहे वे किसी कार्यालय या कारखाने में काम करें, सार्वजनिक क्षेत्र में या निजी क्षेत्र में, प्रत्येक कर्मचारी को सुरक्षित कामकाजी परिस्थितियों, उचित वेतन और समान अवसरों का अधिकार है।

दुर्भाग्य से, हमारे समाज में सभी श्रमिकों को इन बुनियादी अधिकारों और सुरक्षा का आनंद नहीं मिलता है। शोषण और दुर्व्यवहार से लेकर, लंबे समय तक काम करने और कम वेतन तक, अपर्याप्त स्वास्थ्य और सुरक्षा नियमों तक, अभी भी कई चुनौतियां हैं जिनका श्रमिकों को सामना करना पड़ता है, यहां तक कि हमारी आधुनिक दुनिया में भी। और जिम्मेदार नागरिक और समाज के सदस्य के रूप में यह हम पर निर्भर है कि हम सभी श्रमिकों के अधिकारों और सम्मान के लिए लड़ें, और यह सुनिश्चित करें कि उनके साथ निष्पक्ष और उचित व्यवहार किया जाए।

तो, इस मजदूर दिवस पर, आइए हम काम के महत्व और हमारे समाज में सभी श्रमिकों के योगदान को याद करें। आइए हम प्रत्येक श्रमिक की मानवीय गरिमा का जश्न मनाएं, और हमारी दुनिया में उनकी आवश्यक भूमिका को पहचानें। और आइए हम सभी श्रमिकों के अधिकारों और सुरक्षा के लिए लड़ने और सभी के लिए एक अधिक न्यायपूर्ण और समान समाज बनाने के लिए अपने प्रयासों को दोगुना करें।

मजदूर दिवस पर शुभकामनाएं- संदेश : मजदूर दिवस की बधाई
गृह मंत्री अमित शाह ने मजदूर दिवस की शुभकामनाएं दी हैं। उन्होंने सोशल मीडिया पर लिखा :

सभी श्रमिक बहनों-भाइयों को विश्व श्रमिक दिवस की शुभकामनाएँ।

नए भारत की शक्ति हमारे श्रमिक जन, विकसित और आत्मनिर्भर भारत के निर्माण में अतुलनीय योगदान दे रहे हैं। बीते 10 वर्षों में मोदी सरकार ने ‘श्रमेव जयते’ के मूल मंत्र के साथ देश के श्रमिकों के जीवन में आमूलचूल परिवर्तन किए हैं। देश के सभी श्रमिकों को एक समृद्ध भारत के निर्माण में योगदान देने के लिए धन्यवाद।

वहीं केंद्रीय श्रम मंत्रालय ने मजदूर दिवस पर शुभकामनाएं देते हुए अपने संदेश में लिखा : सभी श्रमिक भाईयों एवं बहनों को श्रम एवं रोजगार मंत्रालय की तरफ से अंतरराष्ट्रीय श्रमिक दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं।

कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष मल्लिकार्जुन खड़गे ने मजदूर दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं देते हुए अपने संदेश में कहा-

आज मज़दूर दिवस है। आज का दिन मेरे लिए विशेष है। मैंने अपने जीवन को शुरुआत मज़दूरों के अधिकारों की वकालत करते हुए की थी। केंद्र के श्रम मंत्री के रूप में मैंने श्रमिकों के जीवन को सरल एवं सुखद बनाने के कई प्रयास किए। देश की आधारशिला रखने में हमारे श्रमिकों का अद्वितीय योगदान होता है। घंटों कड़ी मेहनत, कठिन परिश्रम और जद्दोजहद कर वो राष्ट्र निर्माण में अपनी अभिन्न भागीदारी सुनिश्चित करते है। 18वें लोकसभा चुनाव देश के श्रमिकों, मज़दूरों और कामगारों के अधिकारों को सुरक्षित करने का मौक़ा है। इस चुनाव में कांग्रेस पार्टी ने 5 न्याय और 25 गारंटी दी है। हमारा “श्रमिक न्याय” ख़ासकर मज़दूरों को पर्याप्त पारिश्रमिक और उनका शोषण से बचाने के लिए अनेकों क्रांतिकारी कदम ले कर आया है। स्वास्थ्य अधिकार, श्रम का सम्मान, शहरी रोजगार गारंटी, सामाजिक सुरक्षा, सुरक्षित रोजगार। कांग्रेस की गारंटी है कि हमारी सरकार बनने के बाद हम मज़दूरों, कामगारों और असंगठित क्षेत्र में काम करने वाले बहन-भाईयों का आत्मसम्मान सुनिश्चित करेंगे। श्रमिक न्याय के अंतर्गत इन 5 गारंटी को अक्षरशः लागू करेंगे। श्रमेव जयते
मजदूर दिवस या मई दिवस मनाने शुरुआत 1 मई 1886 को की गई। तब अमेरिका के मजदूर यूनियनों ने काम का समय 8 घंटे से अधिक नहीं रखने के लिए हड़ताल की थी। तब फैक्टरियों में मजदूरों से 15 घंटे तक काम लिया जाता था। हड़ताल के बाद मजदूर युनियनों की मांगें मानी गई और काम के घंटे तय किए गए। साथ ही साप्ताहिक छुट्‌टी का अधिकार भी इसी आंदोलन की देन है।
1 मई को क्या मनाया जाता है?
1 मई को अंतरराष्ट्रीय श्रम दिवस मनाया जाता है। इस दिन मजदूरों के सम्मान में छुट्‌टी रहती है। इसे मई दिवस के नाम से भी जाना जाता है। गुजरात और महाराष्ट्र में 1 मई को राज्य स्थापना दिवस मनाया जाता है।
1 मई को मजदूर दिवस के रूप में मनाया जाता है। आज के दिन को हम श्रमिकों के संघर्ष के लिए याद करते हैं। श्रमिकों के संघर्ष के बाद इस दिन को उचित व समान वेतन, सुरक्षित काम करने की स्थिति, संगठित होने व अपनी आवाज कार्यस्थलों, न्यायालयों और सरकार में सुने जाने के अधिकार के लिए याद करते हैं। अंतरराष्ट्रीय मजदूर दिवस आधुनिक दुनिया के निर्माण में श्रमिकों के योगदान और बलिदान को दर्शाता है।
मजदूर दिवस की शुरुआत किस देश में हुई थी?
मजदूर दिवस की शुरुआत अमेरिका से हुई। वहां मजूदरों के लिए 8 घंटे से अधिक काम न लेने की मांग की गई और 1 मई को मजदूर दिवस के रूप में मनाया जाता है।

Advertisements

About विश्व भारत

Check Also

राम मंदिर प्राणप्रतिष्ठेनंतर पाकिस्तानचा जळफळाट

अयोध्येत प्रभू श्रीराम मंदिरात प्राणप्रतिष्ठा सोहळा संपन्न होताच देशभरात जल्लोष होतोय.अनेक मंदिरांमध्ये विविध कार्यक्रम आयोजित …

नागपुरातील आंभोरा ब्रिजचे अमेरिकेतील लॉस एंजिल्सचे काय आहे कनेक्शन?वाचा

विदर्भातील नागपूर जिल्ह्यातील एक महत्वाचं तीर्थक्षेत्र म्हणून आंभोर्‍याचा लौकिक आहे. याच आंभोऱ्यात आंभोरा केबल स्टेड …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *