Breaking News

वसुंधरा और शिवराज की उपेक्षा करना क्या BJP के लिए इतना आसान होगा?

Advertisements

वसुंधरा और शिवराज की उपेक्षा करना क्या बीजेपी के लिए इतना आसान होगा?

Advertisements

टेकचंद्र सनोडिया शास्त्री: सह-संपादक रिपोर्ट

Advertisements

भोपाल । मध्य प्रदेश, राजस्थान में बीजेपी के केंद्रीय नेतृत्व ने जब मुख्यमंत्री पद के लिए नए चेहरों को चुना तो सवाल ये उठा कि पुराने चेहरों का अब क्या
होगा? मध्य प्रदेश में 18 साल से मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान की बजाय मोहन यादव को सीएम पद के चुना गया है.राजस्थान में मुख्यमंत्री रह चुकीं वसुंधरा राजे की बजाय भजनलाल शर्मा को चुना गया. अब इस फ़ैसले के बाद इन दोनों वरिष्ठ नेताओं का भविष्य क्या होगा?
द इंडियन एक्सप्रेस की रिपोर्ट में लिखा है कि अटल बिहारी वाजपेयी और लालकृष्ण आडवाणी के चुने हुए शिवराज और वसुंधरा के भविष्य पर अनिश्चितता छाई हुई है.
छत्तीसगढ़ में रमन सिंह को बीजेपी ने मुख्यमंत्री क्यों नहीं बनाया?
बीजेपी के केंद्रीय नेतृत्व ने फ़िलहाल पत्ते नहीं खोले हैं कि आख़िर इन दो पूर्व मुख्यमंत्रियों के लिए क्या प्लान हैं.
64 साल के शिवराज और 70 साल के वसुंधरा अपने इलाक़ों में अब भी लोकप्रिय हैं.
केंद्र की सत्ता में आएंगे शिवराज और वसुंधरा?
पार्टी नेताओं का कहना है कि केंद्रीय नेतृत्व इन दोनों नेताओं को पार्टी के भीतर या केंद्र सरकार में मौक़ा दे सकता है.
राज्य की सत्ता संभालने से पहले शिवराज और वसुंधरा दोनों केंद्र सरकार में रह चुके हैं. पार्टी से जुड़े नेताओं का कहना है कि 2014 में बीजेपी जब सत्ता में आई तो वसुंधरा को केंद्र की राजनीति में आने के लिए कहा गया था, मगर उन्होंने इससे इनकार किया था.
मोदी- शाह जब पार्टी पर अपनी पकड़ मज़बूत कर रहे थे, तब वसुंधरा राजस्थान में स्थानीय नेताओं, विधायकों और वफ़ादारों के बीच बनी रहकर राज्य में बीजेपी को संभाल रही थीं.
हालांकि 2018 में वसुंधरा राजे जब अशोक गहलोत के सामने सत्ता खोती हैं, बीजेपी ने तभी राज्य में पार्टी के नए नेतृत्व को आगे लाने का फ़ैसला कर लिया था.
सीएम रहने के दौरान शिवराज ने अपना प्रभाव तेज़ी से बढ़ाया. ज्योतिरादित्य सिंधिया के कांग्रेस छोड़ने और बीजेपी में आने के बाद भी शिवराज की लोकप्रियता कम नहीं हुई और महिलाओं के लिए शुरू की गई स्कीम के कारण वो महिलाओं की नज़रों में अच्छे बने है।
शिवराज और वसुंधरा को क्या ज़िम्मेदारी दी जाएगी?
अब जब बीजेपी ने दोनों राज्यों में नेतृत्व को बदल दिया है. तब क्षेत्रीय स्तर पर इन नेताओं का क्या होगा, इसे लेकर अलग-अलग राय हैं. राज्यों के चुनावों में शामिल एक पार्टी नेता ने कहा कि ये असंभव है कि वसुंधरा और शिवराज को कोई काम ना दिया जाए.
इंडियन एक्सप्रेस से एक वरिष्ठ पार्टी नेता कहते हैं, ”वसुंधरा और शिवराज बिना ज़िम्मेदारी के नहीं होंगे. इनको क्या ज़िम्मेदारी दी जाएगी, क्या इस ज़िम्मेदारी को ये लोग स्वीकार करेंगे या नहीं. इन सवालों का जवाब हम नहीं दे सकते. हमारी पार्टी कार्यकर्ताओं की पार्टी है. ऐसे लोग जिनके अच्छे ख़ास समर्थक हैं, उनकी सक्रियता कम नहीं की जा सकती.”
पार्टी के दूसरे वरिष्ठ नेता कहते हैं- कई लोगों का मानना है कि राज्य के चुनावों में बहुमत इन दोनों नेताओं को मिला. नेताओं को केंद्र सरकार में ज़िम्मेदारी दी जा सकती है. इन नेताओं से पार्टी से मिले ऑफर को अगर स्वीकार नहीं किया तो फ़ैसला लेने में वक़्त लग सकता है.
बीजेपी के एक वरिष्ठ नेता कहते हैं कि ये पूरी तरह शिवराज पर रहेगा कि वो दिल्ली से मिलने वाले ऑफर को स्वीकार करते हैं या नहीं. हाल ही में शिवराज सिंह चौहान ने मीडिया में कहा था, ”मैं पूरी विनम्रता से कहना चाहता हूं कि मैं अपने लिए कुछ मांगने से बेहतर मरना पसंद करूंगा. ये मेरा काम नहीं है.”
बीजेपी के एक नेता कहते हैं- शिवराज के इस बयान से पार्टी नेतृत्व परेशान हुआ होगा और अब इसकी संभावना कम ही है कि उन्हें दिल्ली में कोई ज़िम्मेदारी दी जाएगी.क्या शिवराज सिंह चौहान मुसलमानों के भी मामा हैं?
शिवराज सिंह ने ऐसा क्या किया है कि हारते ही नहीं है,
द टाइम्स ऑफ इंडिया की रिपोर्ट के मुताबिक, कभी बीजेपी के सबसे लोकप्रिय चेहरों में शामिल वसुंधरा राजे को बीजेपी ने टॉप पोस्ट पर ना चुनने का फ़ैसला किया है.
इन चुनावों में कांग्रेस और बीजेपी के वोट शेयर में सिर्फ़ दो फ़ीसदी का फ़ासला था. वसुंधरा 2003 से 2008 और फिर 2013 से 2018 तक सीएम रह चुकी हैं और इस बार भी प्रबल दावेदार मानी जा रही थीं. हालांकि बीजेपी ने वसुंधरा राजे को सीएम पद के लिए प्रोजेक्ट नहीं किया था.
पार्टी ने जब कई सांसदों को विधानसभा चुनाव लड़वाने का फ़ैसला किया था, तब भी वसुंधरा को साफ़ संकेत भेजने की कोशिश की गई थी.
बीजेपी के चुनाव जीतने के बाद विधायक वसुंधरा राजे के घर जाकर समर्थन दिखाते रहे हैं.
वसुंधरा के बेटे दुष्यंत सिंह पर एक विधायक के पिता ने बीजेपी विधायकों को रिसॉर्ट में रखने का आरोप लगाया था.
वसुंधरा राजे और दुष्यंत ने बीजेपी अध्यक्ष जेपी नड्डा से भी मुलाक़ात की थी. हालांकि इस बीच वसुंधरा राजे ने ये साफ दिखाने की कोशिश की कि वो पार्टी नेतृत्व के साथ हैं. तीन राज्यों में बड़ी जीत के लिए वसुंधरा ने पीएम मोदी का आभार व्यक्त किया था.
राजस्थान चुनाव में क्या हैं महिलाओं के मुद्दे
भजन लाल शर्मा ने कई वरिष्ठ नेताओं को पीछे छोड़ते हुए राजस्थान सीएम पद की कुर्सी पाई.
द हिंदू की रिपोर्ट के मुताबिक़, भजनलाल शर्मा बीजेपी में संगठन स्तर पर तीन दशक से सक्रिय हैं और लो प्रोफाइल रहते हैं.
द हिंदू के मुताबिक़, बीजेपी ने छत्तीसगढ़ में एक आदिवासी, मध्य प्रदेश में एक ओबीसी यादव नेता और राजस्थान में ब्राह्मण चेहरे का चुनाव 2024 चुनावों को ध्यान में रखकर किया है.
भजनलाल शर्मा राज्य में बीजेपी के महासचिव चार बार रह चुके हैं.
भजनलाल छात्र राजनीति के दिनों में एबीवीपी से जुड़े रहे और फिर बाद में संघ में सक्रिय हुए.
1990 में एबीवीपी में कश्मीर मार्च किया था. भजनलाल ने उसमें हिस्सा लिया था और उधमपुर में 100 दूसरे लोगों के साथ गिरफ़्तार हुए थे.
शिवराज क्यों बोले वो सीएम की रेस में नहीं, सामने है ये बड़ा लक्ष्य
हिंदुस्तान टाइम्स की रिपोर्ट के मुताबिक़, बीजेपी ने राज्य की सरकारों में जो नए चेहरे चुने हैं, वो एबीवीपी से जुड़े रहे हैं.
अखबार ने बीजेपी नेतृत्व में एबीवीपी बैकग्राउंड के नेताओं की मौजूदगी पर रिपोर्ट की है.
एबीवीपी राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ की स्टूडेंट विंग है.
हाल ही में अमित शाह ने एबीवीपी के एक कार्यक्रम में ख़ुद को भी एबीवीपी का बताया था.

Advertisements

About विश्व भारत

Check Also

PM मोदींचा नागपुरात मुक्काम, तळेगावात सभा : नागपूर, रामटेकमध्ये आज मतदान

१९ एप्रिलला राज्यांतील पाच लोकसभा मतदारसंघात मतदान आहे. यात नागपूरचा समावेश आहे. आणि त्याच दिवशी …

महाराष्ट्र में मायावती को बड़ा झटका, एकनाथ शिंदे गुट की शिवसेना में शामिल हुए BSP के दो बड़े नेता

महाराष्ट्र में मायावती को बड़ा झटका, एकनाथ शिंदे गुट की शिवसेना में शामिल हुए BSP …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *