Breaking News

जानिए गृहलक्ष्मी पारिजात पौधे के औषधीय गुण और धार्मिक महत्व

Advertisements

जानिए गृहलक्ष्मी पारिजात पौधे के औषधीय गुण और धार्मिक महत्व

Advertisements

नई दिल्ली। शास्त्रों में पारिजात को कल्पवृक्ष भी कहा गया है. एक अन्य मान्यता है कि पारिजात समुद्र मंथन से निकला है. माना जाता है कि जिस घर में हरसिंगार का पौधा लगा होता है उस घर में सदैव मां लक्ष्मी का वास होता है. वैज्ञानिक दृष्टि से हरसिंगार एंटीऑक्सीडेंट्स, एंटी-इंफ्लामेटरी और एंटी-बैक्टीरियल गुणों से संपन्न है.

Advertisements

पारिजात एक ऐसा औषधीय पौधा है, जिसका इस्तेमाल पूजा-पाठ में किया जाता है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने राम मंदिर के परागण में पारिजात का पौधा लगाया है। इस पौधे के बारे में कहा जाता है कि पारिजात पौधे को देवराज इंद्र ने स्वर्ग में लगाया था। पारिजात का दूसरा नान हरसिंगार है। पारिजात के फूल बेहद सुगन्धित, छोटे पखुड़ियों वाले और सफेद रंग के होते हैं। फूल के बीच में चमकीला नारंगी रंग होता है। ये पौधा झाड़ीदार होता है, इसके पत्तों के साथ इसके फूल में भी चिकित्सकीय गुण होते हैं। इसके फूल आँखों की समस्या में फायदेमंद होते हैं। पारिजात भूख को बढ़ाने और अन्य पाचन संबंधी विकारों को दूर करने में भी इस्तेमाल जाता है। पारिजात का फूल पश्चिम बंगाल का राजकीय पुष्प भी है। आइए जानते हैं कि पारिजात का पौधा औषधीय रूप से किस-किस रोग के लिए काम में लाया जा सकता है-

 

पारिजात के पत्तों से खांसी का इलाज

 

खांसी के लिए आयुर्वेदिक दवा के रूप में आप पारिजात के पेड़ के पत्ते का इस्तेमाल कर सकते हैं। 500 मिग्रा पारिजात की छाल का चूर्ण बनाएं। इसका सेवन करने से खांसी ठीक होती है।

 

नकसीर बहने का असरदार इलाज

 

कुछ लोगों को नकसीर बहती है, मतलब नाक से खून आने की परेशानी होती है, ऐसे लोग पारिजात का उपयोग कर सकते हैं। इस पौधे की जड़ को मुंह में रखकर चबाएं। इससे नाक, कान, कंठ आदि से निकलने वाला खून बंद हो जाता है।

 

पेट के कीड़ों से निजात दिलाते हैं इसके पत्ते

 

बच्चे हों या वयस्क, सभी को कई बार पेट में कीड़े की समस्या हो जाती है। पारिजात के पेड़ से ताजे पत्ते तोड़ लें। चीनी के साथ पारिजात के ताजे पत्ते का रस (5 मिली) सेवन करें। इससे पेट और आंतों में रहने वाले हानिकारक कीड़े खत्म हो जाते हैं।

 

बार-बार पेशाब आता है तो इस पौधे का इस्तेमाल करें।

 

कुछ लोगों को बार-बार पेशाब करने की समस्या होती है, यूरीन की इस समस्या से निजात दिलाने में ये पौधा बेहद असरदार है। पारिजात के पेड़ के तने के पत्ते, जड़, और फूल का काढ़ा बनाएं। इसे 10-30 मिली मात्रा में सेवन करें। इससे बार-बार पेशाब करने की परेशानी खत्म हो जाएगी।

 

घाव को भरता है पारिजात का पौधा

 

औषधीय गुणों से भरपूर पारिजात का पौधा घाव को जल्द ही ठीक कर सकता है। पारिजात के बीज का पेस्ट बनाएं। इसे फोड़े-फुन्सी या अन्य सामान्य घाव पर लगाएँ। इससे घाव ठीक हो जाता है।

 

शुगर के मरीजों के लिए फायदेमंद है पारिजात।

 

जिन लोगों की शुगर कंट्रोल में नहीं रहता है, वे 10-30 मिली पारिजात के पत्ते का काढ़ा बना लें। इसका सेवन करें। इससे शुगर कंट्रोल में रहेगा

गृहलक्ष्मी का पौधा कैसा होता है

 

गृहलक्ष्मी का पौधा कैसा होता पारिजात – हममें से कई लोग ऐसे हैं जिन्हें घर में पेड़-पौधे लगाने का बहुत शौक होता है। वास्तु शास्त्र में कुछ पौधे लगाने से न केवल समृद्धि आती है बल्कि आय के स्रोत भी बढ़ते हैं। इसके अलावा वास्तु शास्त्र में कुछ पौधे है जिसे गृहलक्ष्मी का पौधा माना जाता है और इसे घर में लगाना बहुत फायदेमंद माना जाता है। तो आइये -जानते है –

घर में गृह लक्ष्मी का पौधा लगाना बहुत शुभ माना जाता है। इस पौधे को लगाने से घर में धन की देवी का वास होता है। वास्तु शास्त्र के अनुसार हरसिंगार के पौधे को देवी लक्ष्मी का पौधा माना जाता है। इस पौधे को लगाने से जीवन से जुड़ी कई समस्याएं दूर

यह पौधा घर के लिए बहुत फायदेमंद होता है। इस पौधे को घर में लगाने से मां लक्ष्मी का वास होता है और पैसों से जुड़ी परेशानियां दूर हो जाती हैं। वास्तु शास्त्र के अनुसार हरसिंगार का पौधा घर में लगाने से आर्थिक समस्याएं जल्दी दूर हो जाती हैं, क्योंकि इस पौधे में धन की देवी का वास होता है।

 

अगर आप घर में गृह लक्ष्मी का पेड़ लगाते हैं तो यह परिवार के सदस्यों को तनाव से दूर रखता है। धार्मिक मान्यताओं के अनुसार हरसिंगार का पौधा घर में लगाने से धन में वृद्धि होती है और तिजोरी हमेशा भरी रहती है।

 

अगर आप घर में हरसिंगार का पौधा लगाने की सोच रहे हैं तो इसे सोमवार या गुरुवार के दिन लगाएं। इस दिन पौधे लगाना शुभ माना जाता है।

 

वास्तु शास्त्र के अनुसार हरसिंगार का पौधा उत्तर या पूर्व दिशा की ओर लगाना चाहिए। इस दिशा में लगाने से पूरा लाभ मिलता है।

 

2) क्रासुला का पौधा

 

वास्तु शास्त्र के अनुसार देवी लक्ष्मी को यह पौधा बहुत प्रिय है। इस पौधे को क्रसुला प्लांट या जेड प्लांट के नाम से भी जाना जाता है। ऐसा कहा जाता है कि जिस घर में क्रासुला का पौधा होता है वहां धन की देवी लक्ष्मी का स्थाई निवास होता है। उस घर के सदस्यों पर देवी लक्ष्मी सदैव प्रसन्न रहती हैं।

 

वास्तु शास्त्र के अनुसार जिस घर में क्रासुला का पौधा लगा होता है उस घर के लोगों को कभी भी धन की कमी नहीं होती है। घर में क्रासुला का पौधा लगाने से कर्ज से मुक्ति मिलने लगती है।

 

वास्तु शास्त्र के अनुसार इस पौधे में धन को आकर्षित करने की अद्भुत क्षमता होती है। इसीलिए इसे धन का पौधा भी कहा जाता है।

 

वास्तु शास्त्र के अनुसार अगर आप घर के प्रवेश द्वार के दाहिनी ओर क्रासुला का पौधा लगाते हैं तो यह आपके लिए बहुत फायदेमंद हो सकता है।

 

वास्तु शास्त्र के अनुसार जो व्यक्ति अपने ऑफिस में क्रासुला का पौधा लगाता है। उस व्यक्ति को समय-समय पर वेतन वृद्धि के साथ पदोन्नति भी मिलती रहती है।

 

3) लक्ष्मणा का पौधा

लक्ष्मणा के पौधे का सीधा संबंध मां लक्ष्मी से है। इस पौधे को घर में लगाने से देवी लक्ष्मी बहुत प्रसन्न रहती हैं और जिस घर में यह लगा होता है वहां उसका वास होता है। इसके पत्ते पीपल या पान के पत्तों की तरह होते हैं। इस पौधे में धन को आकर्षित करने वाले गुण होते हैं।

आज के इस लेख में हमने आपको गृहलक्ष्मी का पौधा के बारे में जानकारी प्रदान की हैं। हमे उम्मीद है आपको यह लेख अच्छा लगा होगा, अगर आपको यह लेख गृहलक्ष्मी का पौधा कैसा होता है। अच्छा लगा है तो इसे अधिक से अधिक लोगो के साथ शेयर करे।

Advertisements

About विश्व भारत

Check Also

पेेट की चर्बी कम करने के लिए 6 बातों का रखें ख्याल? बढा पेट अंदर होने लगेगा!

पेेट की चर्बी कम करने के लिए 6 बातों का रखें ख्याल? बढा पेट अंदर …

आयुर्वेद के अनुसार जितनी लंबी उम्र, उतना अधिक आक्सीजन देता है पाकड़,फल पेड

आयुर्वेद के अनुसार जितनी लंबी उम्र, उतना अधिक आक्सीजन देता है पाकड़,फल पेड टेकचंद्र सनोडिया …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *