Breaking News

(भाग:249) असत्य पर सत्य की जीत मर्यादा पुरुषोत्तम श्रीराम के हाथों मारा गया दशानन रावण? रामलीला मंचन

Advertisements

(भाग:249) असत्य पर सत्य की जीत मर्यादा पुरुषोत्तम श्रीराम के हाथों मारा गया दशानन रावण? रामलीला मंचन

Advertisements

टेकचंद्र सनोडिया शास्त्री: सह-संपादक रिपोर्ट

Advertisements

न्याय की अन्याय पर, धर्म की अधर्म पर, बुराई पर अच्छाई की , सत्य की असत्य पर और अंधकार पर उजाले की विजय का प्रतीक विजयादशमी का पर्व पर हर्षोल्लास के साथ विजय दशमी मनाई जाती है। इस दौरान जगह-जगह रावण के साथ ही उसके पुत्र मेघनाथ व भाई कुंभकरण का पुतला दहन किया जाता है। भगवान श्रीराम ने जैसे ही रावण के पुतला में आग लगाई पूरा रामलीला मैदान जय श्रीराम के जयकारे से गूंज उठा। इसके पूर्व राम-रावण के भयंकर युद्ध का भी दर्शकों ने आनंद उठाया। इस बार जिले में कोविड-19 के कारण काफी सतकर्ता के साथ दशहरा मनाया गया। गत वर्ष जहां 77 स्थानों पर पुतला दहन किया गया था वह इस बार महज 14 स्थानों पर ही हुआ।

 

जिले के विभिन्न स्थानों पर कई दिनों से चल रही रामलीला के समापन अवसर पर रविवार को को जिले के कई स्थानों पर रावण वध किया गया। राब‌र्ट्सगंज नगर में स्थित रामलीला मैदान में रावण वध देखने के लिए शाम होते-होते लोगों की भीड़ जमा हो गई। शाम लगभग पांच बजे जब भगवान श्रीराम और दशानन के बीच युद्ध शुरू हुआ तो रामलीला मैदान में लोगों की भीड़ बढ़ती चली गई। राम-रावण युद्ध के बीच-बीच में जय श्रीराम के जयकारे लगते रहे। भगवान राम ने जैसे ही रावण के नाभिकुंड में तीर मारा तो रावण का पुतला धू-धू कर जलने लगा। रावण के साथ मेघनाथ व कुंभकरण का भी पुतला दहन किया गया।

 

दशहरे पर ग्रामीण क्षेत्रों में भी मेले जैसा माहौल

 

सोनभद्र : विजयदशमी के मौके पर शहर तो शहर ग्रामीण क्षेत्रों में भी काफी उत्साह रहा। कोरोना संक्रमण की वजह से बगैर किसी तामझाम के जगह-जगह रावण का पुतला दहन किया गया। जहां राम-रावण युद्ध हुआ वहां मेले जैसा माहौल रहा।

 

दुद्धी : तहसील मुख्यालय पर टाउन क्लब मैदान में जब रावण के पुतले में आग लगी तो सैकड़ों की भीड़ उमड़ पड़ी। सुरक्षा व्यवस्था के लिए वहां एसडीएम रमेश कुमार, पुलिस क्षेत्राधिकारी रामाशीष यादव, कोतवाल पंकज सिंह भारी पुलिस बल के साथ मुस्तैद रहे। रामलीला कमेटी के अध्यक्ष रविद्र जायसवाल एवं महामंत्री आलोक अग्रहरि श्रद्धालुओं से शारीरिक दूरी एवं मास्क पहनने की अपील करते रहे। जबकि मंचन के लिए प्रबंधक कमलेश सिंह कमल ने औपचारिकता पूर्ण कराया।

 

महुली : विढमगंज थाना क्षेत्र के महुली कस्बे में राजा बरियार शाह खेल मैदान में दशहरा मनाया गया। यहां सुरक्षा के मद्देनजर पुलिस और पीएसी दोनों मौजूद रही। चतरा ब्लाक के रामगढ़ में इस वर्ष कोविड-19 के कारण लोगों में उत्साह तो जरूर रहा लेकिन, रावण दहन नहीं हुआ। हालांकि जहां-जहां दशहरा मनाया जाता रहा है वहां-वहां मेला लगा। गुरमा में दस फीट के रावण का दहन किया गया। दुर्गा प्रतिमाओं का हुआ विसर्जन

 

सोनभद्र : नौ दिनों तक मां दुर्गा की आराधना के बाद जगह-जगह स्थापित प्रतिमाओं का विसर्जन सोमवार को किया गया। विसर्जन के दौरान किसी तरह की समस्या उत्पन्न न होने पाए इस लिए पुलिस-प्रशासन के लोग डटे रहे। राब‌र्ट्सगंज क्षेत्र की प्रतिमाओं को धंधरौल डैम में विसर्जन किया गया। ओबरा क्षेत्र के खैरटिया स्थित बंधे में उस क्षेत्र की प्रतिमाएं विसर्जित की गईं। दुद्धी क्षेत्र के की प्रतिमाएं शिवाजी तालाब में विसर्जित हुईं। इसके पहले भक्तों ने मातारानी की प्रतिमा को नगर में घुमाया। राब‌र्ट्सगंज के न्यू कालोनी स्थित स्थापित जय अंबे महोत्सव दुर्गा पंडाल के तत्वाधान में सोमवार को गाजे बाजे के साथ हुई मूर्ति विसर्जन हुआ। इस दौरान संरक्षक राकेश कुमार, अध्यक्ष महेश मिश्रा, अजीत सिंह, संदीप पांडेय, अंकित सिंह राठौड़ आदि मौजूद थे।

राम और रावण का युद्ध तथा रावण का वध

महाभारत वनपर्व के रामोपाख्यान पर्व के अंतर्गत अध्याय 290 में राम और रावण का युद्ध तथा रावण के वध का वर्णन हुआ है[1]-

रावण का रणभूमि में प्रस्थान

मार्कण्डेय जी कहते हैं- युधिष्ठिर! अपने प्रिय पुत्र इन्द्रजित के मारे जाने पर दशमुख रावण का क्रोध बहुत बढ़ गया। वह सुवर्ण तथा रत्नों से विभूषित रथ पर बैठकर लंकापुरी से बाहर निकला। हाथों में अनेक प्रकार के अस्त्र-शस्त्र धारण करने वाले भयंकर राक्षस उसे घेरकर चले।

 

राम और रावण का युद्ध

वह वानर-यूथपतियों से युद्ध करता हुआ श्रीरामचन्द्र जी की ओर दौड़ा। उसे क्रोधपूर्वक आक्रमण करते देख मैन्द, नील, नल, अंगद, हनुमान और जाम्बवान ने सेना सहित आगे बढ़कर उसे चारों ओर से घेर लिया। उन रीछ और वानर सेनापतियों ने दयानन के देखते-देखते वृक्षों की मार से उसकी सेना का संहार आरम्भ कर दिया। अपनी सेना को शत्रुओं द्वारा मारी जाती देख मायावी राक्षसराज रावण ने माया प्रकट की। उसके शरीर से सैंकड़ों और हजारों राक्षस प्रकट होकर हाथों में बाण, शक्ति तथा ऋष्टि आदि आयुध लिये दिखायी देने लगे। श्रीरामचन्द्र जी ने अपने दिव्य अस्त्र के द्वारा उन सब राक्षसों को नष्ट कर दिया। तब राक्षसराज ने पुनः माया की सृष्टि की। भारत! दशानन ने श्रीराम और लक्ष्मण के ही बहुत से रूप धारण करके श्रीराम और लक्ष्मण पर धावा किया। तदनन्तर वे राक्षस हाथों में धनुष बाण लिये श्रीराम और लक्ष्मण को पीड़ा देते हुए उन पर टूट पड़े। राक्षसराज रावण की उस माया को देखकर इक्ष्वाकुकुल का आनन्द बढ़ाने वाले सुमित्राकुमार लक्ष्मण को तनिक भी घबराहट नहीं हुई। उन्होंने श्रीराम से यह महत्त्वपूर्ण बात कही- ‘भगवन! अपने ही समान आकार वाले इन पापी राक्षसों को मार डालिये।’ तब श्रीराम ने रावण की माया से निर्मित अपने की समान रूप धारण करने वाले उन सबको तथा अनय राक्षसों को भी मार डाला।

 

मातलि का रणभूमि में प्रस्थान

इसी समय इन्द्र का सारथि मातलि हरे रंग के घोड़ों से जुते हुए सूर्य के समान तेजस्वी रथ के साथ उस रणभूमि में श्रीरामचन्द्र जी के समीप आ पहुँचा।

 

मातलि द्वारा इंद्र का संदेश देना

मातलि बोला- पुरुषसिंह! यह हरे रंग के घोड़ों से जुता हुआ विजयशाली उत्तम रथ देवराज इन्द्र का है। इस विशाल रथ के द्वारा इन्द्र ने सैंकड़ों दैत्यों और दानवों का समरांगण में संहार किया है। नरश्रेष्ठ! मेरे द्वारा संचालित इस रथ पर बैठकर आप युद्ध में रावण को शीघ्र मार डालिये, विलम्ब न कीजिये। मातलि के ऐसा कहने पर श्रीरामचन्द्र जी ने उसकी बात पर इसलिये संदेह किया कि कहीं यह भी राक्षस की माया ही न हो। तब विभीषण ने उनसे कहा- ‘पुरुषसिंह! यह दुरात्मा रावण की माया नहीं है। ‘महाद्युते! आप शीघ्र इन्द्र के इस रथ पर आरूढ़ होइये।’ तब श्रीरामचन्द्र जी ने प्रसन्नतापूर्वक विभीषण से कहा- ‘ठीक है।’

 

राम द्वारा रावण पर आक्रमण

यों कहकर उन्होंने रथ पर आरूढ़ हो बड़े रोष के साथ दशमुख रावण पर आक्रमण किया। रावण पर श्रीराम की चढ़ाई होते ही समस्त प्राणी हाहाकार कर उठे, देवलोक में नगारे बज उठे और जोर-जोर से सिंहनाद होने लगा। दशकन्धर रावण तथा राजकुमार श्रीराम में उस समय महान युद्ध छिड़ गया। उस युद्ध की संसार में अन्यत्र कही उपमा नहीं थी। उनका वह संग्राम उन्हीं के संग्राम के समान था। निशाचर रावण ने श्रीराम पर एक त्रिशूल चलाया, जो उठे हुए इन्द्र के वज्र तथा ब्रह्मदण्ड के समान अत्यन्त भयंकर था; परंतु श्रीराम ने ततकाल अवपने तीखे बाणों द्वारा उस त्रिशूल के टुकड़े-टुकड़े कर दिये। उनका यह दुष्कर कर्म देखकर दशानन रावण के मन में भय समा गया। फिर कुपित होकर उसने तुरंत ही तीखे सायकों की वर्षा आरम्भ की। उस समय श्रीरामचन्द्र जी के ऊपर भाँति-भाँति के हजारों शस्त्र गिरने लगे तथा भुशुण्डी, शूल, मुसल, फरसे, नाना प्रकार की शक्तियाँ, शतघ्नी और तीखी धारवाले बाणों की वृष्टि होने लगी। राक्षस दशानन की उस विकराल माया को देखकर सब वानर भय के मारे चारों दिशाओं में भाग चले। तब श्रीरामचन्द्र जी ने सोने के सुन्दर पंख तथा उत्तम अग्रभाग वाले एक श्रेष्ठ बाण को तरकस से निकालकर उसे ब्रह्मास्त्र द्वारा अभितन्त्रित किया।

 

रावण का वध

श्रीराम द्वारा ब्रह्मास्त्र से अभिमन्त्रित किये हुए उस उत्तम बाण को देखकर इन्द्र आदि देवता तथा गन्धर्वों के हर्ष की सीमा न रही। शत्रु के प्रति श्रीराम के मुख से ब्रह्मास्त्र का प्रयोग होता देख देवता, दावन और किन्नर यह समझ गये कि अब इस राक्षस की आयु बहुत थोड़ी रह गयी है। तदनन्तर श्रीरामचन्द्र जी ने उठे हुए ब्रह्मदण्ड के समान भयंकर तथा अप्रतिम तेजस्वी उस रावण विनाशक बाण को छोड़ दिया। युधिष्ठिर! श्रीराम द्वारा धनुष को दूर तक खींचकर छोड़े हुए उस बाण के लगते ही राक्षसराज रावण रथ, घोड़े और सारथि सहित इस प्रकार जलने लगा मानो भयंकर लपटों वाली आग के लपेट में आ गया हो। इस प्रकार अनायास ही महान कर्म करने वाले श्रीरामचन्द्र जी के हाथों से रावण को मारा गया देख देवता, गन्धर्व तथा चारण बहुत प्रसन्न हुए। तदनन्तर पाँचों भूतों ने उस महान भाग्यशाली रावण को त्याग दिया। ब्रह्मास्त्र के तेज से दग्ध होकर वह सम्पूर्ण लोकों से भ्रष्ट हो गया। उसके शरीर के धातु, मांस तथा रक्त भी ब्रह्मास्त्र से दग्ध होकर नष्ट हो गये। उसकी राख तक नहीं दिखाई दी

Advertisements

About विश्व भारत

Check Also

(भाग:304) मां शक्ति स्वरूपा दुर्गा का एक रूप प्रेमभक्ति का भी है प्रतीक माना जाता है

(भाग:304) मां शक्ति स्वरूपा दुर्गा का एक रूप प्रेमभक्ति का भी है प्रतीक माना जाता …

(भाग:303) नवरात्र में नौ दुर्गा को आदिशक्ति जगत जननी जगदम्बा भी कहा जाता है

(भाग:303) नवरात्र में नौ दुर्गा को आदिशक्ति जगत जननी जगदम्बा भी कहा जाता है टेकचंद्र …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *