Breaking News

नितिशकुमार या शरद पवार होंगे PM का चेहरा?

Advertisements

नितिशकुमार या शरद पवार होंगे PM का चेहरा?

Advertisements

टेकचंद्र सनोडिया शास्त्री: सह-संपादक रिपोर्ट

Advertisements

दिल्ली में हाल ही INDIA गठबंधन की चौथी बैठक हूई. इस मीटिंग से पहले ही नेतृत्व को लेकर बयानबाजी सामने आने लगी है. एक तरफ जेडीयू ने नीतीश कुमार य शरद पवार को पीएम कैंडिडेट घोषित करने की मांग की है तो वहीं दूसरी तरफ शिवसेना ने पूछा है कि इस रथ का सारथी कौन होगा?
पांच राज्यों के हैरान करने वाले चुनावी नतीजों के बाद विपक्षी INDIA गठबंधन आज एक बार फिर जुटने जा रहा है. विपक्ष के इस महागठबंधन की दिल्ली में बैठक होने वाली है, जिसमें 28 सियासी दलों के प्रमुख और उनके नेता शामिल होंगे. बैठक से पहले बिहार की सत्ता में काबिज मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की पार्टी ने एक नई डिमांड कर दी है. वहीं, शिवसेना (UBT) ने भी नेतृत्व को लेकर सवाल उठाए हैं.

जनता दल यूनाइटेड (JDU) के विधायक धीरेंद्र प्रताप सिंह ने कहा है कि बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार को प्रधानमंत्री उम्मीदवार घोषित कर देना चाहिए. अगर ऐसा किया जाता है, तब ही फायदा होगा. इस डिमांड के पीछे की वजह बताते हुए धीरेंद्र प्रताप सिंह ने कहा कि INDIA गठबंधन में सिर्फ नीतीश कुमार ही स्वच्छ छवि वाले नेता हैं. उनकी ही छवि ईमानदार वाली है.

शिवसेना ने की व्यवस्था में सुधार की मांग

उद्धव ठाकरे और ममता बनर्जी से मिले अरविंद केजरीवाल ने रखे अपने विचार।जिससे सभी सोचने को विवश है। असल में NCP चीफ शरदचंद्र पवार भी PM बनने के लिए टकटकी लगाए हुए हैं? हालकि शरदचंद्र पवार साहब लोकसभा चुनाव लडने वाले नहीं है। वे राज सभा सांसद है और 2026 मे सेवानिवृत होने वाले हैं तब तक वे प्रधान
मंत्री बनना चाहते है ? उधर लालुप्रसाद यादव PM बनने का आखिरी सपना संजोए हुए हैं। TMC नेता CM ममता बनर्जी को प्रधानमंत्री बनने के लिए राजी हो गई हैं। जबकि कांग्रेस हाईकमान सोनिया गांधी अपने बेटे राहुल गांधी य बेटी प्रियंका गांधी वाड्रा को अपनी सासुमां भूतपूर्व प्रधानमंत्री स्वर्गीय इंदिरा गांधी के कदम पर प्रधानमंत्री बनाना चाहती है।
‘INDIA’ की बैठक से पहले उद्धव ठाकरे और ममता बनर्जी से मिले अरविंद केजरीवाल भी प्रधान मंत्री बनना चाहते हैं। उत्तर और दक्षिण की राजनीतिक बहस में बीजेपी और विपक्षी गठबंधन आमने सामने खास टक्कर होगी।
एक भारत श्रेष्ठ भारत कैंपेन में राष्ट्रवाद के मुद्दे पर मोदी के निशाने पर कांग्रेस और विपक्षी INDIA गठबंधन गुट के लगभग सभी नेता केंद्रीय मंत्री बनने का सपना देख रहे है। उधर पंजाब की 13 सीटों पर ‘आप’ तैयार.विपक्षी INDIA गठबंधन के नेताओं में तकरार शुरु है!

अभियान कांग्रेस का और डोमेन नेम की मालिक BJP जब ‘डोनेट फॉर देश’ कैम्पेन में हुई गड़बड़ी
कांग्रेस आलाकमान के लिए अशोक गहलोत से हिसाब किताब करने का मौका आ गया है
गहलोत-बघेल के साथ भी कांग्रेस नेतृत्व कमलनाथ जैसा ही सलूक करने वाला है?
शिवसेना (UBT) ने अपने मुखपत्र सामना में कहा है कि INDIA गठबंधन का महत्व बढ़ाया जाना चाहिए. आज रथ में 28 घोड़े हैं, लेकिन रथ का कोई सारथी नहीं है, जिसके चलते रथ अटक गया है. सामना में आगे कहा गया है कि दिल्ली में सिर्फ इकट्ठा होना, दोपहर का भोजन करना और सबके हाथ पोंछकर घर चले जाने की व्यवस्था में अब सुधार होना चाहिए

MP में जानबूझकर अखिलेश को दूर रखा

सामना की संपादकीय में आगे कहा गया कि ‘भारत जोड़ो’ यात्रा की शुरुआत ही मध्य प्रदेश से हुई, लेकिन कांग्रेस की सबसे दारुण पराजय एमपी में ही हुई. तीनों राज्य ‘इंडिया’ ने नहीं बल्कि कांग्रेस ने गंवाए. कांग्रेस जीत का ‘केक’ अकेले खाना चाहती थी. इसलिए मध्य प्रदेश में अखिलेश यादव को जानबूझकर दूर रखा गया. ऐसा कहा जाने लगा है कि जहां पर कांग्रेस के खुद के दम पर जीतने की संभावना पैदा होती है, वहां वह किसी को साथ लेने को तैयार नहीं होती. अपने अहंकार के साथ-साथ ‘इंडिया’ का भी नुकसान करती है.

बैठक में शामिल होंगे 28 पार्टियों के नेता

बता दें कि दिल्ली में हो रही यह बैठक इंडिया गठबंधन की चौथी बैठक है. इससे पहले पटना, बेंगलुरु और मुंबई में अलांयस की मीटिंग हो चुकी है. आज दिल्ली में अशोका होटल में बैठक दोपहर 3 बजे से शुरू होगी. इसमें 28 पार्टियों के प्रमुख और उनके नेता शामिल होंगे. बैठक के जरिए विपक्षी दलों को फिर से जोड़ने की कोशिश की जाएगी. मीटिंग से पहले राजद प्रमुख लालू प्रसाद यादव, जदयू नेता नीतीश कुमार, टीएमसी प्रमुख ममता बनर्जी दिल्ली पहुंच गए हैं. इसके अलावा सोमवार को नीतीश और ममता ने दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल से मुलाकात भी की है.

फरवरी तक हो सकता है उम्मीदवारों का ऐलान

बैठक में सीट शेयरिंग का मुद्दा प्रमुख हो सकता है. माना जा रहा है INDIA अलायंस जनवरी या फरवरी तक साझा उम्मीदवारों के नाम घोषित कर सकता है. गठबंधन के दल पहले ही साफ कर चुके हैं कि सीट शेयरिंग सुनिश्चित करने के लिए राज्यों में सब कमेटियां बनाई जाएंगी.

Advertisements

About विश्व भारत

Check Also

उमेदवार आणि निवडणूक चिन्ह कोणते?गडचिरोलीतील नक्षलग्रस्त दुर्गम भागातील आदिवासींचा सवाल

पुर्व विदर्भातील पाच लोकसभा मतदार संघात 19 एप्रिलला मतदान होत आहे. या पाच पैकी गडचिरोली …

नगरीय प्रशासन मंत्री कैलाश विजयवर्गीय के करकमलों लोकसभा चुनाव संकल्प-पत्र का विमोचन

नगरीय प्रशासन मंत्री कैलाश विजयवर्गीय के करकमलों लोकसभा चुनाव संकल्प-पत्र का विमोचन   टेकचंद्र सनोडिया …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *