Breaking News

सर्वेक्षण ने महाराष्ट्र BJP विधायकों की नींद उडाई? एमपी, राजस्थान और छत्तीसगढ़ की तरह नए चेहरों को सुनहरा मौका

Advertisements

सर्वेक्षण ने महाराष्ट्र BJP विधायकों की नींद उडाई? एमपी, राजस्थान और छत्तीसगढ़ की तरह नए चेहरों को सुनहरा मौका

Advertisements

टेकचंद्र सनोडिया शास्त्री: सह-संपादक रिपोर्ट

Advertisements

नागपुर।बीजेपी की हालिया सर्वे रिपोर्ट ने उसके विधायकों की नींद उड़ा दी है। विधायकों को चेताया गया है कि उनका टिकट कंफर्म नहीं है और प्रदर्शन सुधारना बेहतर है। नमो ऐप को डाउनलोड करने का लक्ष्य है और सोशल मीडिया पर सक्रिय होने को कहा गया है। वॉर रूम नहीं बनने पर नाराजगी हुई है और सभी विधायकों को वॉर रूम तैयार करने को कहा गया है।

बीजेपी की हालिया सर्वे रिपोर्ट ने पार्टी ही नहीं, बल्कि उसके विधायकों की भी नींद उड़ा दी है। महाराष्ट्र में कई विधायकों की रिपोर्ट अच्छी नहीं बताई जा रही है। पार्टी ने विधायकों को चेता दिया है कि कोई भी यह नहीं समझे कि उनका टिकट कंफर्म है। इसलिए प्रदर्शन सुधारना ही बेहतर है। सोशल मीडिया पर ऐक्टिव रहकर ज्यादा से ज्यादा मतदाताओं तक पहुंच बनाने का भी निर्देश दिया। मध्यप्रदेश, राजस्थान, छत्तीसगढ़ के विधानसभा चुनावों में जिस तरह से बीजेपी ने विधायकों के टिकट काटे और जिस तरह से नए चेहरों को टिकट दिया, उसे देखते हुए महाराष्ट्र में भी बड़े बदलाव की संभावना से इनकार नहीं किया जा सकता। बीजेपी ने सभी विधायकों को एक टास्क देते हुए उस पर कड़ाई से अमल करने का निर्देश दिया है। इसके बाद भी नकारात्मक रिपोर्ट सकारात्मक नहीं हो पाई तो पार्टी उन्हें घर बिठा सकती है।

बीते दिनों नागपुर में उपमुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस के सरकारी आवास पर बीजेपी विधायकों की बैठक हुई, जिसमें इस सर्वे रिपोर्ट पर चर्चा हुई। सभी विधायकों को विकास कार्यों को जन-जन तक पहुंचाने के लिए अपने कार्यकर्ताओं और पदाधिकारियों को सक्रिय करने को कहा गया है।

नमो ऐप से जोड़ें 50 हजार कार्यकर्ता
केंद्र सरकार की जनहित योजना ‘नमो’ ऐप को 50 हजार कार्यकर्ताओं को डाउनलोड करने का लक्ष्य दिया गया है। सभी विधायकों को ‘नमो’ खेल और सांस्कृतिक प्रतियोगिताएं आयोजित करना होगा। ‘नमो’ क्रिकेट, खो-खो, कबड्डी, बैडमिंटन समेत अन्य खेल प्रतियोगिताओं के साथ ही ‘नमो’ नृत्य, संगीत, वाद्ययंत्र प्रतियोगिताओं का भी आयोजन करना होगा। भरोसेमंद सूत्रों ने एनबीटी को बताया कि इन लक्ष्यों को हासिल करने के लिए 25 जनवरी तक का समय दिया गया है।

‘सोशल मीडिया पर सक्रियता बढ़ाएं’

विधायकों को सोशल मीडिया पर सक्रिय होना होगा। अपनी सभी ऐक्टिविटीज को फेसबुक, एक्स, इंस्टाग्राम, वॉट्सऐप और अन्य सोशल मीडिया पर अपलोड करने को कहा गया है। वॉट्सऐप ग्रुप पर ज्यादा से ज्यादा मतदाताओं से जुड़ने को कहा गया है। पार्टी ने नए मापदंड बनाए हैं। इसके तहत एक विधायक को फेसबुक पर कम से कम 10,000 फॉलोअर्स बनाने होंगे, अन्यथा उसका प्रदर्शन ‘खराब’ माना जाएगा। 10,000-25,000 फॉलोअर्स वाले औसत, 25000-50000 फॉलोअर्स वाले को अच्छा और 50,000 से अधिक फॉलोअर्स वाले को उत्कृष्ट प्रदर्शन करने वाले के रूप में गिना जाएगा। इसी तरह, इंस्टाग्राम और ‘X’ पर भी ग्रेड दिए जाएंगे।

वॉर रूम नहीं बनने पर नाराजगी

बीजेपी ने राज्य की सभी 288 विधानसभा चुनाव क्षेत्रों में चुनाव वॉर रूम बनाने का निर्णय लिया था। जहां पार्टी के विधायक नहीं हैं, वहां पर तो पार्टी के पदाधिकारियों ने वॉर रूम बना लिया है, परंतु जहां पार्टी के विधायक हैं, वहां पर वॉर रूम नहीं बनाया गया है। खासकर मुंबई के विधायकों में सबसे ज्यादा लापरवाही देखने को मिली है। बीजेपी प्रदेश अध्यक्ष चंद्रशेखर बावनकुले और उपमुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस ने इस पर नाराजगी जताई। सभी विधायकों को वॉर रूम तैयार करने और सक्रिय होने को कहा गया है।

Advertisements

About विश्व भारत

Check Also

PM मोदींचा नागपुरात मुक्काम, तळेगावात सभा : नागपूर, रामटेकमध्ये आज मतदान

१९ एप्रिलला राज्यांतील पाच लोकसभा मतदारसंघात मतदान आहे. यात नागपूरचा समावेश आहे. आणि त्याच दिवशी …

महाराष्ट्र में मायावती को बड़ा झटका, एकनाथ शिंदे गुट की शिवसेना में शामिल हुए BSP के दो बड़े नेता

महाराष्ट्र में मायावती को बड़ा झटका, एकनाथ शिंदे गुट की शिवसेना में शामिल हुए BSP …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *