Breaking News

अयोध्या रामलला प्राण प्रतिष्ठा समारोह में जय श्रीराम के नारों से गूंज उठा कोराडी श्रीमहालक्ष्मी जगदंबा तीर्थ परिक्षेत्र

Advertisements

अयोध्या रामलला प्राण प्रतिष्ठा समारोह में जय श्रीराम के नारों से गूंज उठा कोराडी श्रीमहालक्ष्मी जगदंबा तीर्थ परिक्षेत्र

Advertisements

टेकचंद्र सनोडिया शास्त्री: सह-संपादक रिपोर्ट

Advertisements

नागपुर । अयोध्या में रामलला की प्राण प्रतिष्ठा पूरी हो गई है. इसी के साथ रामभक्तों का 500 साल का लंबा इंतजार खत्म हो गया है. प्राण प्रतिष्ठा समारोह में पीएम मोदी, सीएम योगी और संत महात्मा समेत देश के तमाम दिग्गज मौजूद रहे. प्रधानमंत्री मोदी ने संतों और प्रतिष्ठित हस्तियों समेत सात हजार से ज्यादा लोगों की सभा को संबोधित भी किया. अयोध्या में राम मंदिर के गर्भगृह को चेन्नई से लाए गए सुगंधित फूलों से सजाया गया है. रामलला अब इसी भव्य राम मंदिर में रहेंगे.
इधर विदर्भ महाराष्ट्र मे विख्यात कोराडी तीर्थ क्षेत्र परिसर मे स्थित श्री महालक्ष्मी जगदंबा मंदिर प्रागण परिसर में मर्यादा पुरुषोत्तम श्रीराम लल्ला की प्राणप्रतिष्ठा समारोह उपलक्ष्य में उपमुख्य मंत्री श्री देवेन्द्र फडणवीस कोराडी मंदिर पंहुचकर मां जगदंबा की पूजा अर्चना की पुजारी फूलझेने बंधुओं ने उन्हे श्रीफल, प्रसाद और मां की चुनरी भेंट की। कलेक्टर डा विपिन इटनकर, कोराडी पावर प्लांट के CE मोटघरे साहब और पुलिस अधिकारी मौजूद थे।भाजपा महाराष्ट्र प्रदेशाध्यक्ष चंद्रशेखर बावनकुले सपत्नीक विधायक जगदंबा लोकसेवा प्रतिष्ठान की अध्यक्षा सौ ज्योतिताई बाबनकुले,संंकेेेत बावनकुले,विधायक टेकचंद्र सावरकर अपने सैकडों कार्यकरताओं के पैदल मंदिर संस्थान पंहुचे एवं माता रानी जगदंबा की पूजा अर्चना की पश्चात श्रीराम हलुवा प्रसाद स्थल पंहुचकर पर्दे पर अयोध्या राम मंदिर प्राण प्रतिष्ठा का आंखों देखा नजारा को देखा गया। प्रदेशाध्यक्ष चंद्रशेखर बावनकुले ने सैकडों रामभक्तों को संबोधित किया कि 500 वर्षों के इंतजार के बाद आज भारत वासियों का सपना साकार होने जा रहा है।
इस मोके पर प्रमुख रुप से भाजपा के पूर्व विधायक अनिल सोले,गिरीश ब्यास, सेवानिवृत्त अभियंता श्री शेखर अमीन,भाजपा के नागपुर जिला महामंत्री अनिल निधान, संस्थान उपाध्यक्ष अजयबाबु बिजयवर्गी, श्री खानोरकर , महामंत्री लक्खी सिंह,सरपंच नरेंद धानोले,बोखारा के सरपंच रामभाऊ गोमासे, ग्राम सदस्य आशिष राऊत,नगर उपाध्यक्ष धनंजय भालेराव, पन्नालाल रंगारी,क्रृष्णा बरडे,किशोर बरडे, राजेश मछले, सुनिल कुरील,अंरुण उज्वणे, रमेश वडस्कर, रमेश वैराले,राजेश गोल्हर,हकीम साहब नसीर भाई,बाजीराव ढेंगरे,बबनराव ढेंगरे, तेजेश्वर आशीष खुबेले, देवा सावरकर, देवीदास फूलझेले,तेजेश्वर अंबाडकर, अशोक वर्गी, अक्षय काले,प्रकाश भालेराव, नरेंद झोड,भाजपा की प्रदेश सचिव लताताई गावंडे,अधि पायलताई आस्टनकर, सौ अनुराधा ताई आमीन,सौ नंदाताई तुरक, सौ धनश्री काले,नितांत ताई मकवाना, मेघाताई खोब्रागडे, अन्नापूर्णा ताई मेश्राम, निलोफर ताई शेख, विधाताई वाघ, वैसाली ताई वाघ,रोशनीताई वाघ,किरणताई खंगारले, नगर पार्षद सारिकाताई झोड,वंदनाताई पौनीकर, ममता ताई वरठे,बावू खुबेले, प्रमुखता से उपस्थित थे। विधायक टेकचंद्र सावरकर ने कहा कि मर्यादा पुरुषोत्तम भगवान श्रीराम के भव्य मंदिर में प्रतिष्ठापन के अवसर पर उपस्थित समुदाय को हार्दिक बधाइयां और शुभकामनाएं दी।

राम विवाद नहीं समाधान है

उधर अयोध्या में श्रीराम मंदिर की प्राणप्रतिष्ठा के पश्चात पीएम नरेंद्र मोदी ने कहा कि राम मंदिर सभी के लिए उजज्वल भविष्य की प्रेरणा लेकर आया है. राम विवाद नहीं, राम समधान हैं, राम वर्तमान नहीं , राम अनंतकाल हैं. राम के सर्वव्यापक्ता के दर्शन हो रहे हैं. पपीएम मोदी ने कहा कि भारतीय संस्कृति की अटूट विश्वास की भी प्राण प्रतिष्ठा है. आज अयोध्या में, केवल श्रीराम के विग्रह रूप की प्राण प्रतिष्ठा नहीं हुई है, ये श्रीराम के रूप में साक्षात भारतीय संस्कृति के प्रति अटूट विश्वास की भी प्राण प्रतिष्ठा है. ये साक्षात मानवीय मूल्यों और सर्वोच्च आदर्शों की भी प्राण प्रतिष्ठा है.

पीएम मोदी ने प्रभु राम से मांगी माफी

पीएम मोदी ने कहा कि मैं आज प्रभु श्रीराम से क्षमा याचना भी करता हूं. हमारे पुरुषार्थ, त्याग और तपस्या में कुछ तो कमी रह गई होगी कि हम इतनी सदियों तक ये कार्य कर नहीं पाए.आज वो कमी पूरी हुई है. मुझे विश्वास है कि प्रभु राम आज हमें अवश्य क्षमा करेंगे.

कहने को तो बहुत कुछ…

संबोधन के दौरान पीएम मोदी का गला रूंध गया. उन्होंने कहा कि आज कहने को बहुत कुछ है. ये वियोग केवल 14 वर्षों का नहीं, अयोध्या और सभी ने सैकड़ों वर्षों तक सहा है. पूरा देश उत्सव मना रहा है. आज शाम घर-घर रामज्योति प्रज्वलित करने की तैयारी है. उन्होंने कहा कि गुलामी की मानसिकता को तोड़कर उठ खड़ा हुआ राष्ट्र, अतीत के हर दंश से हौसला लेता हुआ राष्ट्र ऐसे ही नव इतिहास का सृजन करता है. आज से हजार साल बाद भी लोग आज की इस तारीख की, आज के इस पल की चर्चा करें. हमारे लिए ये अवसर केवल विजय का नहीं विनय का भी है. हमारा देश अतीत से बहुत सुंदर होने जा रहा है.

ये काल के चक्र पर अमिट रेखाएं:

पीएम मोदी ने कहा कि आज हमें प्रभु राम का मंदिर मिला है. गुलामी के मानसिक्ता से उपर उठकर आज दिन दिशाएं सब दिव्यता से परिपूर्ण हैं. ये काल के चक्र पर अमिट रेखाएं हैं. मैं माता जानकी, भरत, लक्ष्मण सबको प्रणाम करता हूं.

ये क्षण आलौकिक है: पीएम मोदी

पीएम मोदी ने कहा कि गर्भगृह में साक्षी बनकर आपके सामने खड़ा हूं. अब हमारे रामलला टेंट में नही रहेंगे. रामलला दिव्य मंदिर में रहेंगे. ये क्षण आलौकिक है. उन्होंने कहा कि ये क्षण पवित्र है. प्रभु राम का हम सबपर आर्शीवाद है. 22 जनवरी 2024 एक तारीख नहीं नए काल चक्र का उद्गम है.

पीएम मोदी कर रहे संबोधित
पीएम मोदी समारोह में मौजूद लोगों को संबोधित कर रहे हैं. पीएम मोदी ने कहा कि सदियों के इंतजार के बाद हमारे प्रभु राम आ गए हैं. वो अब टेंट में नहीं रहेंगे. वो भव्य मंदिर में रहेंगे.

पीएम के बाद हमें तप करना: भागवत

RSS प्रमुुख मोहन भागवत ने कहा कि सारे कलहों को विदाई देनी होगी. लड़ाई करने की आदत छोड़नी पडे़गी. आपस में हम सबको समन्वय से चलना होगा.सेवा की भाव और परोपकार की भावना हम सबमें होनी चाहिए. पीएम मोदी के तप के बाद हमें तप करना है. आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत समारोह में मौजूद लोगों को संबोधित कर रहे हैं. उन्होंने कहा कि आज पूरा देश भाव विभोर है. पीएम मोदी ने कठोर उपवास किया. आज रामलला 500 सालों बाद आए है. आज के आनंद का शब्दों में वर्णन नहीं हो सकता

अब अयोध्या में कर्फ्यू का कहर नहीं होगा: सीएम योगी

अपने संबोधन में सीए आदित्यनाथ योगी ने कहा कि 500 वर्षों के सुदीर्घ अंतराल के बाद आए प्रभु श्री रामलला के विग्रह की प्राण-प्रतिष्ठा के ऐतिहासिक और अत्यंत पावन अवसर पर आज पूरा भारत भाव-विभोर और भाव विह्वल है. पीएम के इच्छाशक्ति और दृढ संकल्प के बिना संभव नहीं था. सीएम योगी ने कहा कि श्री अवधपुरी में श्री रामलला का विराजना भारत में ‘रामराज्य’ की स्थापना की उद्घोषणा है. रामकृपा से अब कभी कोई भी श्री अयोध्या धाम की पारंपरिक परिक्रमा को बाधित नहीं कर सकेगा. यहां की गलियों में गोलियां नहीं चलेंगी, सरयू जी रक्त रंजित नहीं होंगी. अयोध्या धाम में कर्फ्यू का कहर नहीं होगा.यहां उत्सव होगा. रामनाम संकीर्तन गुंजायमान होगा. श्रीराम जन्मभूमि मुक्ति महायज्ञ न केवल सनातन आस्था व विश्वास की परीक्षा का काल रहा, बल्कि संपूर्ण भारत को एकात्मकता के सूत्र में बांधने के लिए राष्ट्र की सामूहिक चेतना जागरण के ध्येय में भी सफल सिद्ध हुआ. जो संकल्प पूर्वजों ने लिया था वो पूर्ण हुआ.
सीएम योगी ने कहा कि हृदय से सभी का स्वागत और अभिनंदन. प्रभु रामलला के भव्य धाम में पधारे सभी को कोटि कोटि बधाई. व्यक्त करने के लिए शब्द नहीं हैं. भारत का हर शहर अयोध्या धाम, रोम-रोम में राम रमे हैं. मंदिर निर्माण के लिए कितनों ने लड़ाई लड़ी. मंदिर वहीं बना है जहां बनाने का संकल्प लिया था. अयोध्या समेत पूरा भारत आनंदमय हो उठा है।

Advertisements

About विश्व भारत

Check Also

(भाग:301)चक्रवर्ती सम्राट दशरथ-कौशल्यानंन्द नंदन मर्यादा पुरुषोत्तम श्रीराम जन्म और रामनवमी की महिमा

(भाग:301)चक्रवर्ती सम्राट दशरथ-कौशल्यानंन्द नंदन मर्यादा पुरुषोत्तम श्रीराम जन्म और रामनवमी की महिमा टेकचंद्र सनोडिया शास्त्री: …

(भाग:300) देवी देवता और असुर भी करते हैं माता सिद्धिदात्री की नवधा भक्ति पूजा अर्चना और प्रार्थना

(भाग:300) देवी देवता और असुर भी करते हैं माता सिद्धिदात्री की नवधा भक्ति पूजा अर्चना …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *