Breaking News

प्राणघातक कैंसर सहित अनेक जानलेवा बीमारियां निवारण के लिए रामबाण है पपीता सेवन

Advertisements

प्राणघातक कैंसर सहित अनेक जानलेवा बीमारियां निवारण के लिए रामबाण है पपीता सेवन

Advertisements

टेकचंद्र सनोडिया शास्त्री: सह-संपादक रिपोर्ट

Advertisements

प्राणघातक एवं जानलेवा कैंसर नामक बीमारी निवारण के लिए पपीता रामबाण माना जा रहा है।

पपीता खाना सेहत के लिए बहुत फायदेमंद होता है। ज्यादातर लोग पपीता खाना पसंद करते हैं। पपीता सेहत के लिहाज से तो फायदेमंद है ही साथ ही त्वचा में निखार के लिए भी काफी कारगर साबित होता है।

पपीता खाना स्वास्थ्य के लिए बहुत फायदेमंद होता है। ज्यादातर लोग पपीता खाना पसंद करते हैं। पपीता सेहत के लिहाज से तो फायदेमंद है ही साथ ही त्वचा में निखार के लिए भी काफी कारगर साबित होता है। पपीते को लोग कई तरह से घरेलू नुस्खे के रूप में भी इस्तेमाल करते हैं। पपीते के पेड़ से लेकर बीच तक सब कुछ किसी न किसी तरह से फायदेमंद होता है।

 

पपीते में पर्याप्त मात्रा में विटामन ए, विटामिन सी, नियासिन, मैग्नीशिय, पोटैशियम, प्रोटीन, कैरोटीन, फाइबर जैसे जरूरी पोषक तत्व पाए जाते हैं। पपीता सिर्फ खाने मात्र से ही शरीर को बहुत फायदा मिलता है।

पपीता खाने के रामबाण फायदे

 

पपीता खाने से हृदय रोगों का खतरा काफी हद तक कम हो जाता है। पपीते के बीज का प्रयोग करने से पाचन क्रिया दुरुस्त रहती है। पपीता खाने से पेट से जुड़ी समस्याएं होने के चांसेस कम हो जाते हैं।

पपीता में कुछ औषधीय गुण पाए जाते हैं, जो आंखों के लिए फायदेमंद होते हैं। गठिया के दर्द के लिए भी पपीता खाना फायदेमंद होता है। पपीता खाने से कैंसर होने का खतरा काफी हद तक कम हो जाता है। इन सबके अलावा अगर आप वजन कम करना चाहते हैं तो पपीता उसके लिए बेस्ट ऑप्शन है।पपीता खाने से ब्लड सर्कुलेशन सही रहता है, जिससे हाई ब्लड प्रेशर कंट्रोल होता है

 

पपीते के पत्ते की चाय –

किसी भी स्टेज के कैंसर को सिर्फ 60 से 90 दिन में जड़ से खत्म किया जा सकता है।

पपीते के पत्ते –

तीसरी और चौथी स्टेज का कैंसर सिर्फ 35 से 90 दिनों में ठीक हो सकता है।

अब तक –

हम इंसानों ने पपीते के पत्तों का इस्तेमाल बहुत ही सीमित तरीके से किया होगा…

(खासतौर पर प्लेटलेट कम करने या त्वचा संबंधी या अन्य किसी छोटे या बड़े प्रयोग के लिए)

लेकिन,

आज हम आपको क्या बताने जा रहे हैं –

ये वाकई आपको हैरान कर देगा.

आप सिर्फ पांच हफ्ते में कैंसर जैसी गंभीर बीमारी को जड़ से खत्म कर सकते हैं।

यह प्रकृति की एक शक्ति है

 

अनेक प्रकार की वैज्ञानिक खोजों से बहुत सारा ज्ञान प्राप्त हुआ जो –

पपीते के हर भाग जैसे फल, तना, बीज, पत्तियां, जड़ सभी में कैंसर कोशिकाओं को मारने और उसके विकास को रोकने के लिए शक्तिशाली औषधि होती है।

विशेष रूप से –

पपीते की पत्तियों में कैंसर कोशिकाओं को मारने और उनकी वृद्धि को रोकने के गुण प्रचुर मात्रा में पाए जाते हैं।

यूनिवर्सिटी ऑफ फ्लोरिडा (2010) और अमेरिका तथा जापान के अंतरराष्ट्रीय डॉक्टरों और शोधकर्ताओं द्वारा किए गए शोध से यह पता चला है कि -पपीते की पत्तियों में कैंसर कोशिकाओं को मारने का गुण पाया जाता है।

 

श्री। नाम डांग – एमडी, पीएचडी जो एक आविष्कारक हैं,उसके अनुसार -पपीते की पत्तियां सीधे कैंसर का इलाज कर सकती हैं। उसके अनुसार -पपीते की पत्तियां करीब 10 तरह के कैंसर

को खत्म कर सकती हैं।

इनमें से प्रमुख हैं-

स्तन कैंसर,फेफड़े का कैंसर,यकृत कैंसर,अग्न्याशय का कैंसर,गर्भाशय ग्रीवा का कैंसर,

 

इसमें जितनी ज्यादा पपीते की पत्तियां डाली जाएंगी.परिणाम उतना ही बेहतर होगा.

पपीते की पत्तियां कैंसर का इलाज कर सकती हैं

और,सर को बढ़ने से रोकता है।

 

तो आइए जानें-

पपीते की पत्तियां कैंसर का इलाज कैसे करती हैं?

(1) पपीता कैंसर रोधी अणुओं Th1 साइटोकिन्स के उत्पादन को बढ़ाता है।

जो इम्यून सिस्टम को मजबूती प्रदान करता है.

जिससे कैंसर कोशिकाएं नष्ट हो जाती हैं।

(2) पपीते के पत्ते में पपेन नमक है –

प्रोटियोलिटिक एंजाइम पाए जाते हैं,

जो कैंसर कोशिकाओं पर प्रोटीन कोटिंग को तोड़ देता है…

इससे कैंसर कोशिकाओं का शरीर में जीवित रहना मुश्किल हो जाता है। इस प्रकार,पपीते के पत्ते की चाय-रोगी के रक्त में मिलकर मैक्रोफेज को उत्तेजित करता है…प्रतिरक्षा प्रणाली को उत्तेजित करके,

कैंसर कोशिकाओं को नष्ट करना शुरू कर देता है।

कीमोथेरेपी/रेडियोथेरेपी और पपीते के पत्तों से उपचार के बीच मुख्य अंतर यह है –

 

कीमोथेरेपी में –

प्रतिरक्षा प्रणाली ‘दबी हुई’ है।

जबकि पपीता निकलता है –

प्रतिरक्षा प्रणाली को ‘उत्तेजित’ करता है,

कीमोथेरेपी और रेडियोथेरेपी में सामान्य कोशिकाएं भी ‘प्रभावित’ होती हैं।

पपीता केवल कैंसर कोशिकाओं को नष्ट करता है।

सबसे बड़ी बात यह है कि –

कैंसर के इलाज में पपीते की पत्तियों का भी कोई ‘साइड इफेक्ट’ नहीं होता है।

*कैंसर में पपीते का सेवन नियम:

कैंसर के लिए सर्वोत्तम पपीते की चाय :-

दिन में 3 से 4 बार बनाएं पपीते की चाय

यह आपके लिए बहुत फायदेमंद है.

आइए अब जानते हैं –

पपीते की चाय कैसे बनाएं:-

(1) सबसे पहले 5 से 7 पपीते के पत्तों को धूप में अच्छी तरह सुखा लें।

तब,से छोटे-छोटे टुकड़ों में तोड़ लें.

 

आपके पास 500 मि.ली. पानी में –

कुछ सूखे पपीते के पत्ते डालें और अच्छी तरह उबालें। इतना उबालें कि -यह आधा रह गया है.

आप इसे 125 ml दे सकते हैं. दिन में 2 बार करी पियें।और,अगर ज्यादा बनता है तो इसे दिन में 3 से 4 बार पियें। बचे हुए तरल को फ्रिज में रखें और आवश्यकतानुसार उपयोग करें।

 

इसका रखें ख्याल-

इसे दोबारा गर्म न करें. (2) 7 ताजी पपीते की पत्तियां लें,

– इसे हाथ से अच्छी तरह गूंथ लें.

अब इसे 1 लीटर पानी में उबालें.

जब यह 250 मि.ली. यदि यह बढ़ जाए तो इसे छानकर 125 मि.ली. इसे 2 टाइम यानि सुबह और शाम पियें।

इस प्रयोग को आप दिन में 3 से 4 बार कर सकते हैं।

आप जितना अधिक पपीते के पत्तों का उपयोग करेंगे.. उतनी ही जल्दी आपको लाभ मिलेगा.

 

टिप्पणी :-

इस चाय को पीने के आधे घंटे तक आपको कुछ भी खाना-पीना नहीं चाहिए। कब तक करना है यह प्रयोग? तो यह प्रयोग आपको 5 सप्ताह में अपना परिणाम दिखा देगा…

हालाँकि हम आपको इसे 3 महीने तक इस्तेमाल करने की सलाह देते हैं। और, ये लोग जो समझ गए हैं, उन लोगों ने उन लोगों का भी भला किया है,

जिनका कैंसर ‘तीसरे’ या ‘चौथे’ चरण का था।

 

ये संदेश –

सभी को भेजने हेतु एक विनम्र अनुरोध।

एक कतरा चाहिए…ताकि अन्य जरूरतमंदों तक पहुंचाया जा सके।

Advertisements

About विश्व भारत

Check Also

पेेट की चर्बी कम करने के लिए 6 बातों का रखें ख्याल? बढा पेट अंदर होने लगेगा!

पेेट की चर्बी कम करने के लिए 6 बातों का रखें ख्याल? बढा पेट अंदर …

आयुर्वेद के अनुसार जितनी लंबी उम्र, उतना अधिक आक्सीजन देता है पाकड़,फल पेड

आयुर्वेद के अनुसार जितनी लंबी उम्र, उतना अधिक आक्सीजन देता है पाकड़,फल पेड टेकचंद्र सनोडिया …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *