Breaking News

84 साल के होने पर भी शरद पवार का राजनीति से रिटायर्ड होने से इंकार? DCM अजितदादा के बयान पर पवार परिवार में छिड़ी जंग!

Advertisements

84 साल के होने पर भी शरद पवार का राजनीति से रिटायर्ड होने से इंकार? DCM अजितदादा के बयान पर पवार परिवार में छिड़ी जंग!

Advertisements

टेकचंद्र समनोडिया शास्त्री: सह-संपादक रिपोर्ट

Advertisements

मुंबई ।महाराष्ट्र। राज्य के DCM अजितदादा पवार ने एक कार्यक्रम के दौरान पूर्व सीएम शरद पवार पर निशाना साधते हुए कहा कि ज्यादातर लोग 75 वर्ष की आयु के होने के बाद अपने सक्रिय पेशेवर जीवन को आमतौर पर रोक देते हैं लेकिन कुछ लोग 80 वर्ष से अधिक आयु की होने पर भी राजनीति से सेवानिवृत्त नहीं होना चाहते हैं। इस पर रोहित पवार और बेटी सुप्रियाताई सुले अजित पवार के बयान पर भडक उठी है?

राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (NCP) के दोनों गुटों के बीच जुबानी जंग छिड़ी हुई है. अजित पवार ने जहां शरद पवार की उम्र को लेकर उन पर निशाना साधा तो वहीं उनके भतीजे रोहित और एनसीपी नेता सुप्रिया सुले ने भी अजित पवार पर पलटवार किया है. विधायक रोहित पवार ने अजीत गुट की आलोचना की. इसके बाद जैसे ही अजित पवार ने पलटवार किया तो रोहित के बचाव में बुआ सुप्रिया सुले आगे आ गईं.

अजित पवार का वयोवृद्ध चाचा शरद पवार पर निशाना

महाराष्ट्र के उप मुख्यमंत्री अजितदादा पवार ने रविवार को अपने चाचा शरद पवार की उम्र को लेकर उन पर परोक्ष हमला करते हुए कहा, ‘उम्र होने के बाद कुछ उम्र के बाद रुकना पड़ता है, यह वर्षो से चली आ रही परंपरा हैं, लेकिन कुछ लोग सुनने को तैयार नहीं, हट्ट करते हैं. आदमी 60 में…..राज्य सरकार में 58 साल में रिटायर होते हैं, कुछ लोग 60 में कुछ लोग 65 में रिटायर होते हैं तो कुछ लोग 70 में रिटायर होते है. कुछ लोग 75 में रिटायर होते हैं लेकिन लेकिन 80 होने 84 साल के होने के बाद भी यह आदमी (शरद पवार) रिटायर नहीं होता है, अरे क्या चल रहा हैं. मैं नीतियों पर काम करने के लिए तैयार हूं। सुप्रिया सुले ने राजनीति मे आने की वजह बताई।

बारामती दौरे पर सुप्रिया सुले ने क्रिकेट के मैदान में बल्ला घुमाया तो उधर उधर विपक्ष का ‘धर्मसंकट’ आडे आरहा है राम मंदिर जाने को लेकर फंसा INDIA गुट बहुत ही परेशान नजर आ रहा है।

DCMअजित पवार ने कहा कि ‘हम कही गलत हैं तो बोलो ना हमें…हमारे उतनी धमक और ताकत हैं. मैंने 5 से 6 बार राज्य का उपमुख्यमंत्री पद संभाला हैं. माता बहनों के लिए अच्छे योजना लाए हैं. अदिती तटकरे ने महिला चौथा धोरण लाया है, उसमें महिलाओं को अधिक मान सम्मान कैसे मिलेगा. बच्चे का पहले मां का फिर पिता का फिर सरनेम लगेगा, इसके पहले सिर्फ पिता का नाम और सरनेम लगता था. जितना बाप का महत्व है उससे ज्यादा मां का महत्व है. यह परंपरा पहले से चली आ रही है इस तरह के निर्णय महायुती की सरकार ले रही है.’

भतीजे को कहा बच्चा

दरअसल विधायक रोहित पवार ने राकांपा के अजीत गुट की आलोचना की थी. अजीत पवार ने अपने विधायक भतीजे रोहित पवार द्वारा उनके गुट की आलोचना को भी खारिज कर दिया. अजित पवार ने रोहित को “एक बच्चा करार दिया. इसके बाद रोहित के बचाव में उनकी बुआ और सांसद सुप्रिया सुले भी सामने आई और उन्होंने कहा कि अजित पवार भी तो एक। 65 साल के ‘सीनियर सिटीजन’ हो गए हैं?

सुप्रिया ने किया बचाव

इससे पहले रोहित के बयान पर प्रतिक्रिया देते हुए अजित पवार ने कहा, ‘वह अभी भी एक बच्चा है. वह अभी भी बच्चा है. वह उतना वरिष्ठ नहीं है कि मैं उसे जवाब दूं. एक पार्टी कार्यकर्ता या हमारा प्रवक्ता उसकी आलोचना का जवाब देगा.’ अजित पवार की टिप्पणी पर सुप्रिया सुले ने कहा कि उनकी तीखी टिप्पणियों को किसी को भी इतनी गंभीरता से नहीं लेना चाहिए. उन्होंने कहा, ‘‘एक चाचा अपने भतीजे (रोहित) को क्या ऐसा कह सकता है.

उधर अनेक NCP कारर्यकरताओं का मानना है कि माननीय श्री शरदचंद्र पवार साहब अब वयोवृद्ध होने के कारण उनमें निर्णय लेने की क्षमता रही नहीं। मुंह में अज्ञात बीमारी की वजह से NCP चीफ शरद पवार साहब की वाक्य शक्ति नष्ट होते जा रही है? यानी उनके मुंह से बोली भाषा स्पष्ट और साफ नही निकल पा रही है?पवार साहब अपनी बोली भाषा कारयकरताओं को समझ नहीं आती है वह क्या बोल रहे हैं वहीं समझते हैं? स्थिति के मद्देनजर अब उन्होने राजनीति से सन्यास ले लेना चाहिए? तफ़ ही बेहतर होगा? अन्यथा NCP. शक्तिहीन होने से किन्हीं रोक सकता है?
उन्होने आगे बताया कि NCP के अधिकांश होनहार नेता और कार्यकर्ता महाराष्ट्र नव निर्माण सेनाएं शामिल हो गए हैं अब बाकि कार्यकर्ता भारतीय जनता पार्टी मे चले जाएंगे? बचे-खुचे वापस कांग्रेस मे शामिल होने वाले हैं। निकट भविष्य में NCP चीफ और पूर्व सीएम शरदचंद्र पवार अकेले अलग-थलग रह जाएंगे।

Advertisements

About विश्व भारत

Check Also

उमेदवार आणि निवडणूक चिन्ह कोणते?गडचिरोलीतील नक्षलग्रस्त दुर्गम भागातील आदिवासींचा सवाल

पुर्व विदर्भातील पाच लोकसभा मतदार संघात 19 एप्रिलला मतदान होत आहे. या पाच पैकी गडचिरोली …

नगरीय प्रशासन मंत्री कैलाश विजयवर्गीय के करकमलों लोकसभा चुनाव संकल्प-पत्र का विमोचन

नगरीय प्रशासन मंत्री कैलाश विजयवर्गीय के करकमलों लोकसभा चुनाव संकल्प-पत्र का विमोचन   टेकचंद्र सनोडिया …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *