Breaking News

अयोध्या में मर्यादा पुरुषोत्तम श्रीराम की प्राण प्रतिष्ठा से पहले देश माहौल बिगाड़ने की नाकाम कोशिश जारी

Advertisements

अयोध्या में मर्यादा पुरुषोत्तम श्रीराम की प्राण प्रतिष्ठा से पहले देश माहौल बिगाड़ने की नाकाम कोशिश जारी

Advertisements

टेकचंद्र सनोडिया शास्त्री: सह-संपादक रिपोर्ट

Advertisements

मुंबई, शाजापुर के बाद रांची से शैतानी वारदात की खबर चल रही है जिसमें अयोध्याधाम मे मर्यादा पुरुषोत्तम प्राण प्रतिष्ठा से पहले माहौल बिगाड़ने के प्रयास षडयंत्र जारी है।

हम शुरू से ही रहते आए हैं के रामलला की प्राण प्रतिष्ठा का महा महोत्सव शांति से धर्मद्रोही होने नहीं देंगे। एक तरफ हम इस महा-महोत्सव को मनाने की तैयारी कर रहे हैं तो दूसरी तरफ यह दुष्ट धर्मद्रोही, शैतान उस महोत्सव को बिगाड़ने का प्रयास कर रहे हैं इसलिए हमें महोत्सव को मनाने की तैयारी के साथ-साथ सुरक्षा व्यवस्था का भी पुख्ता इंतजाम रखना अनिवार्य है। मुंबई (महाराष्ट्र) ,शाजापुर (MP) के बाद अब रांची (झारखंड) में जेहादी हरकत, मंदिर की मूर्तियों को तोड़ा गया ताकि माहौल बिगाड़ा जा सके।

प्राण प्रतिष्ठा के पहले देश में माहौल बिगाड़ने का खेल चालू, झारखंड में भगवान राम समेत अन्य देवी देवताओं को मूर्तियां खंडित करके देश का माहौल खराब करने का षडयंत्र शुरु है।

झारखंड में बीते रात को कई अज्ञात लोगों ने मिलकर एक मंदिर में प्रभु राम समेत कई देवी – देवताओं की मूर्तियां खंडित कर दी। जिसके बाद इलाके में तनाव व्यापत है। वहीं, पुलिस ने मामल दर्ज कर जांच शुरू कर दी है।

दरअसल, झारखंड की राजधानी रांची के डीएवी स्कूल के अंदर स्थित में रविवार रात को कुछ अज्ञात लोगों ने भगवान राम और हनुमान जी समेत कई देवी देवाताओं की मूर्तियों को खंडित कर दिया। सुबह पुजारी मंदिर पहुंचे तो वहां मूर्तियों को देखकर हैरान हो रहे हैं।

Advertisements

About विश्व भारत

Check Also

(भाग:303) नवरात्र में नौ दुर्गा को आदिशक्ति जगत जननी जगदम्बा भी कहा जाता है

(भाग:303) नवरात्र में नौ दुर्गा को आदिशक्ति जगत जननी जगदम्बा भी कहा जाता है टेकचंद्र …

(भाग:302) जिसकी सहायता से ईश्वर सृष्टि का नियंत्रित और सृजन करते हैं उसे शिव-शक्ति कहते हैं

भाग:302) जिसकी सहायता से ईश्वर सृष्टि का नियंत्रित और सृजन करते हैं उसे शिव-शक्ति कहते …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *