Breaking News

(भाग:160) मानव जगत में आध्यात्मिक प्रसार-प्रचार की दृष्टि से अविस्मरणीय है संत ज्ञानेश्वरजी का संदेश

Advertisements

भाग:160) मानव जगत में आध्यात्मिक प्रसार-प्रचार की दृष्टि से अविस्मरणीय है संत ज्ञानेश्वरजी का संदेश

Advertisements

टेकचंद्र सनोडियाम शास्त्री: सह-संपादक रिपोर्ट

Advertisements

महाराष्ट्र के शिखर संतों का ज्ञान एवं गुरु परंपरा पर प्रथम राष्ट्रीय आभासी संगोष्ठी सम्पन्न हुआ था। प्रतिष्ठित राष्ट्रीय संस्था राष्ट्रीय शिक्षक संचेतना द्वारा राष्ट्रीय वेब संगोष्ठी का आयोजन किया गया, जिसका विषय महाराष्ट्र के शिखर संतों का ज्ञान एवं गुरु परंपरा था। आभासी पटल पर मुख्य अतिथि श्री विलासराव देशमुख, मुंबई महाराष्ट्र थे। विशिष्ट वक्ता विक्रम विश्वविद्यालय उज्जैन के हिंदी विभागाध्यक्ष प्रोफेसर शैलेंद्र कुमार शर्मा, प्राचार्य डॉक्टर शहाबुद्दीन नियाज मोहम्मद शेख, पुणे, श्री दिलीप चव्हाण, मुंबई, श्री बाला साहब तोरस्कर मुंबई, डॉ प्रभु चौधरी, डॉ सुरेखा मंत्री, यवतमाल थे। अध्यक्षता श्रीमती सुवर्णा जाधव, मुंबई ने की।
मुख्य अतिथि के रूप में तत्कालीन मुख्यमंत्री श्री विलासराव देशमुख, मुंबई महाराष्ट्र ने कहा था कि ज्ञानेश्वर जी अपनी स्वतंत्र बुद्धि और गुरु भक्ति के लिए जाने जाते हैं। संत ज्ञानेश्वर महाराष्ट्र के एक अनमोल रत्न हैं। श्रोताओं की प्रार्थना, मराठी भाषा के अभिमान, गीता के स्तवन, श्री कृष्ण और अर्जुन का अकृत्रिम स्नेह इत्यादि विषयों ने ज्ञानेश्वर को विशेष बना दिया है। संत ज्ञानेश्वर महाराष्ट्र के सांस्कृतिक और परमार्थिक क्षेत्र के ‘न भूतो न भविष्यति’ जैसे बेजोड़ व्यक्तित्व एवं अलौकिक चरित्र हैं।
विशिष्ट अतिथि विक्रम विश्वविद्यालय उज्जैन के कुलानुशासक एवं हिंदी विभागाध्यक्ष प्रोफेसर शैलेंद्र कुमार शर्मा ने कहा कि महाराष्ट्र के सभी संतों का संदेश मानवता के प्रसार की दृष्टि से अविस्मरणीय है। संत तुकड़ो जी शांति, समन्वय और परस्पर प्रेम के उद्गायक थे। उन्होंने राष्ट्र भक्ति को ईश्वर भक्ति के समान महत्त्व दिया। वे हिंद के पुत्रों से अपने-अपने मत और पंथ छोड़कर भारत मत पर चलने का आह्वान करते हैं। भक्ति के साथ-साथ सामाजिक चेतना पर उन्होंने विशेष बल दिया। उनकी वाणी में अनेक जीवन मूल्य दिखाई देते हैं। वे सारे संसार को मोती की माला में पिरोने पर विश्वास रखते थे। उनके पास स्वानुभूत दृष्टि थी और उन्होंने अपने पूरे जीवन में हृदय की पवित्रता और किसी के लिए भी मन में द्वेषभाव न रखने का पाठ पढ़ाया।
अध्यक्षता कर रहीं श्रीमती सुवर्णा जाधव, मुंबई ने कहा कि महाराष्ट्र संतों की भूमि है। अनेक संतों के विचार आज भी समाज में प्रासंगिक बने हुए हैं, उनमें से ज्ञानेश्वर और राष्ट्र संत तुकड़ो जी प्रमुख हैं। मनी नाही भाव म्हणे देवा मला पाव, अशान देव काही भेटायचा नाही रे। देव काही बाजारचा भाजीपाला नाही रे। ऐसे आसान शब्दों में भक्ति सिखलायी। उन्होंने अंधश्रद्धा निर्मूलन का काम किया। ज्ञानेश्वर माऊली ने ज्ञानेश्वरी लिखी। उन्होंने सरल शब्दो में भागवत धर्म समझाया। उन्होंने पसायदान भी लिखा।
विशिष्ट अतिथि श्री दिलीप चव्हाण, मुंबई, महाराष्ट्र ने कहा कि भारत के महाराष्ट्र को संतों की भूमि कहा जाता है। महाराष्ट्र की धरती पर कई महान संतों ने जन्म लिया, जिनमें एक थे संत ज्ञानेश्वर। वे संत होने के साथ-साथ एक महान कवि भी थे। महान संत ज्ञानेश्वर जी ने संपूर्ण महाराष्ट्र राज्य का भ्रमण कर लोगों को ज्ञान भक्ति से परिचय कराया एवं समता और समभाव का उपदेश दिया। तेरहवीं सदी के महान संत होने के साथ-साथ वे महाराष्ट्र संस्कृति के प्रवर्तकों में से भी एक माने जाते थे।
मुख्य वक्ता डॉ. शहाबुद्दीन नियाज मोहम्मद शेख, पुणे महाराष्ट्र ने कहा कि संत ज्ञानेश्वर मुख्य संतों में से एक हैं। ज्ञानेश्वरी गीता पर आधारित है। ज्ञानेश्वर ने केवल 15 वर्ष की उम्र में ही गीता पर मराठी में ज्ञानेश्वरी नामक भाष्य की रचना करके जनता की भाषा में ज्ञान की झोली खोल दी। उन्होंने गीता को समाज के सामने रखा। संत ज्ञानेश्वर जी ने अपने ज्ञान तत्व को समझाया है। शांत रस की प्रधानता है साथ ही ज्ञानेश्वरी में कर्म के महत्त्व को बताया है।
विशिष्ट वक्ता डॉ सुरेखा मंत्री, महाराष्ट्र ने कहा कि संत ज्ञानेश्वर जी के प्रचंड साहित्य में कहीं भी, किसी के विरुद्ध परिवाद नहीं है। क्रोध, रोष, ईर्ष्या, मत्सर का कहीं लेश मात्र भी नहीं है। समग्र ज्ञानेश्वरी क्षमाशीलता का विराट प्रवचन है।
विशिष्ट अतिथि श्री बालासाहेब तोरस्कर, महाराष्ट्र में कहा कि संत परंपरा में गुरु परंपरा प्राचीन समय से चली आ रही है। संत तुकड़ोजी समाज के प्रति आस्था रखते थे। भारत के प्रति उनका अगाध प्रेम था, देश के प्रति प्रेम भावना था। तुकड़ोजी ने सामूहिक प्रार्थना पर बल दिया। संपूर्ण विश्व में उनकी प्रार्थना पद्धति अतुलनीय थी।
गोष्ठी का प्रारंभ डॉ. मुक्ता कान्हा कौशिक, रायपुर, छत्तीसगढ़ के सरस्वती वंदना हे शारदे मां हे शारदे मां से हुआ। स्वागत उद्बोधन राष्ट्रीय शिक्षक संचेतना महाराष्ट्र प्रदेश अध्यक्ष डॉ. भरत शेणकर ने दिया। प्रस्ताविक भाषण में राष्ट्रीय शिक्षक संचेतना के महासचिव डॉ प्रभु चौधरी ने लिए कहा कि संत तुकड़ोजी महाराज के कार्य और उनकी ख्याति दूर-दूर तक है। महात्मा गांधी द्वारा सेवाग्राम आश्रम में उन्हें निमंत्रित किया गया, जहां वे लगभग एक महीने रहे। उसके बाद तुकडो़जी ने सांस्कृतिक और आध्यात्मिक कार्यक्रमों द्वारा समाज में जनजागृति का काम प्रारंभ कर दिया। महासचिव डॉ प्रभु चौधरी के जन्म दिवस पर काव्य गोष्ठी आयोजन के प्रतिभागियों में प्रथम कुमुद शर्मा गुवाहाटी, द्वितीय सुनीता गर्ग पंचकूला, तृतीय भुनेश्वरी साहू छत्तीसगढ़ को सम्मान पत्र वितरित किया गया।

इस आभासी गोष्ठी में अनेक शिक्षाविद विद्वत जन उपस्थित थे। आभार डॉ अरुणा दुबे, महाराष्ट्र ने व्यक्त किया। कार्यक्रम का संचालन प्राध्यापिका रोहिणी डावरे, अकोले महाराष्ट्र ने किया था। हजारों ज्ञानी विद्धान जनो की उपस्थिति सराहनीय रही।

Advertisements

About विश्व भारत

Check Also

जरांगेचा सरकारवर दबाव : हायकोर्टात याचिका

राज्य मागासवर्गीय आयोगाचे अध्यक्ष निवृत्त हायकोर्टाचे न्यायमूर्ती सुनील शुक्रे यांच्यासह आयोगाच्या इतर सदस्यांच्या नियुक्तीला जनहित …

लोकसभा चुनाव कब होंगे? चीफ इलेक्शन कमिश्नर राजीव कुमार ने दिया बड़ा अपडेट

2024 लोकसभा चुनाव को लेकर चुनाव आयोग से तैयारियां पूरी कर ली हैं। मुख्य चुनाव …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *