Breaking News

(भाग:354) महर्सि भृगु ज्योत‌िष से जान‌िए आपकी क‌िस्मत और भव‌िष्य का रहस्य

Advertisements

(भाग:354) महर्सि भृगु ज्योत‌िष से जान‌िए आपकी क‌िस्मत और भव‌िष्य का रहस्य

Advertisements

 

टेकचंद्र सनोडिया शास्त्री: सह-संपादक रिपोर्ट

Advertisements

 

पंडित नाथूलाल व्यास को राष्ट्रीय मीडिया द्वारा प्रसिद्धि वर्ष 2007 में मिली जब उनकी एक भविष्वाणी के अनुसार प्रतिभादेवी पाटिल राष्ट्रपति बनी। यह भविष्यवाणी उन्होंने श्रीमती प्रतिभावदेवी पाटिल को उनके राष्ट्रपति पद के नामांकन भरने से 6 माह पूर्व दी थी जब कोई दूर-दूर तक उनके इस पद तक पहुचने के कयास भी नहीं लगा सका था। कुछ इसी प्रकार से पंडित नाथू लाल जी ने एक भविष्यवाणी स्मृति ईरानी को मंत्री बनने के संबंध में दी थी जिसके सत्य होने पर वह स्वयं उनका धन्यवाद करने करोई आयी थी। पंडित नाथू लाल जी के अनुसार भृगु पद्धति का ज्ञान उनको वाराणसी के ज्योतिषी स्वर्गीय बख्तावर जी से हुआ था। पंडित नाथू लाल जी 25 वर्ष की आयु में अपना घर छोड़कर इस पद्धति को सीखने वाराणसी गए थे और वहाँ से यह ग्रन्थ प्राप्त कर लगभग 36 वर्ष की आयु में अपने गांव करोई में वापिस आकर तब से अब तक हजारों जिज्ञासुओं की भविष्यवाणियां कर चुके हैं।

भृगु ज्योत‌िष से जान‌िए आपकी क‌िस्मत और भव‌िष्य का रहस्य

85 वर्ष के आयु पर कर चुके पंडित नाथू लाल जी के साथ राजस्थान के करोई जिले में और भी कुछ भृगुशास्त्री हैं। पंडित नाथूलाल जी भृगु का सम्पूर्ण फल कथन और प्रश्न दोनों पद्धतियों का इस्तेमाल करते हैं। वह जातक के हाथ और कुंडली देखकर उसकी ग्रह स्‍थ‌ित‌ि के आधार पर कुछ अंकों को अपनी स्लेट पर लिख लेते हैं। बाद में जातक को भृगु के एक विशेष पत्र पर किसी एक चिन्ह पर हाथ रखने को कहते हैं। जातक के इस चिन्ह विशेष को उंगली से छूने के बाद वह वहां अंकित अंकों का अपने द्वारा ग्रह-गणना से निकले गए अंक से मिलान करते हैं। अंक मिल जाने पर उस अंक विशेष के आधार पर एक ‘भृगु-पत्र’ निकाल कर जातक का फल कथन किया जाता है। इस भृगु फल कथन में अधिकतर संस्कृत के 27 श्लोक होते हैं जिसमे जातक के भाई-बहनों के सुख-दुःख, माता-पिता और घर की स्‍थ‌ित‌ि, शिक्षा, विवाह, संतान, व्यवसाय आदि का सामान्य फल कथन होता है।

भृगु ज्योत‌िष से जान‌िए आपकी क‌िस्मत और भव‌िष्य का राज छुपा हुआ है।

अन्य भृगुशास्त्रियों की भांति एक ही बार में फल-कथन न कहकर नाथूलाल जी जातक को 4 माह उपरान्त पुनः आने को कहते हैं। जातक के कोई विशेष प्रश्न पूछने पर उसका उत्तर उसके भृगु-पत्र में से दिया जाता है। किन्तु भृगु की भविष्यवाणियां साधारण फल कथन पर आधारित होती हैं जिसमें ग्रहों के गोचर के आधार पर कुछ विशेष आयु खंडों जैसे 28, 36, 42, 48, 52, 60 और 72 वर्ष की आयु के पूर्ण होने पर जीवन में कुछ विशेष घटनाओं के होने की भविष्यवाणी दी जाती है। यह फल-कथन बड़े ग्रहों शनि, गुरु और राहु के गोचर में जन्मकालीन ग्रहों के ऊपर या उनसे किसी विशेष स्थान पर आने पर आधारित होता है। पाराशरी और जैमिनी पद्धति की भांति भृगु पद्ध‌त‌ि में दशाओं और वर्ग कुंडलियों का प्रयोग नहीं होता है इस कारण से तात्काल‌िक व‌िषयों पर सटीक फल-कथन की चाह रखने वालों को निराशा हो सकती है। लेक‌िन लंबे समय के ल‌िए भव‌िष्य कथन के मामले में यह पद्ध‌त‌ि काफी सटीक होती है।

Advertisements

About विश्व भारत

Check Also

पांव में काला धागा बांधने के विशेष महत्व

पांव में काला धागा बांधने के विशेष महत्व टेकचंद्र सनोडिया शास्त्री: सह-संपादक रिपोर्ट ज्योतिष शास्त्र …

(भाग:353) भ्रुगु संहिता ज्योतिष ग्रंथ जिसमें छुपा है कई जन्मों के भविष्य का राज

(भाग:353) भ्रुगु संहिता ज्योतिष ग्रंथ जिसमें छुपा है कई जन्मों के भविष्य का राज टेकचंद्र …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *